Monday, April 22, 2024
Homeसोलननालागढ़क्यों नहीं विपिन परमार को जयराम ठाकुर के मंत्रिमंडल से छुट्टी होने...

क्यों नहीं विपिन परमार को जयराम ठाकुर के मंत्रिमंडल से छुट्टी होने पर जिला काँगड़ा की राजनीतिक हत्या होने का दर्द नहीं छलका: सपन सूद

हमीरपुर व मंडी से मुख्यमंत्री देने वाली भाजपा जिला काँगड़ा पर राजनीतिक घड़ियाली आँसू बहाकर राजनीतिक रोटियाँ सेंकने का कर रही है प्रयास

नालागढ /ऋषभ शर्मा

काँगड़ा -चम्बा की राजनीतिक हत्या करने की भाजपा नेताओं की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए जिला काँगड़ा कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता सपन सूद ने कहा की प्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का सम्बन्ध जिला काँगड़ा की भूमि से होने के कारण भाजपाइयों को दिन रात जिला काँगड़ा में अपने राजनीतिक वर्चस्व को बचाने के लिए ऊलजलूल टिप्णियों का सहारा लेना पड़ रहा है।

आरोप लगाते हुए कांग्रेस प्रवक्ता सपन सूद ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व सुलह के भाजपा विधायक विपिन परमार को आड़े हाथों लेते हुए कहा की पूर्व की भाजपा सरकार के कार्यकाल में तत्कालीन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के मंत्रिमंडल से जब उनकी छुटटी हुई थी तब उनको अपनी सरकार में जिला काँगड़ा की राजनीतिक हत्या होने का दर्द नहीं छलका। कांग्रेस प्रवक्ता सपन सूद ने कहा की पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार के अढ़ाई बर्ष के दो कार्यकाल उपरांत प्रदेश की सत्ता में तीन बार विराजमान हुई भाजपा ने जिला काँगड़ा से मुख्यमंत्री बनाने की कभी भी कवायद नहीं की। उन्होंने कहा की हमीरपुर व मंडी से मुख्यमंत्री देने वाली भाजपा जिला काँगड़ा पर राजनीतिक घड़ियाली आँसू बहाकर लोगों को गुमराह करके अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेंकने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा की जिला काँगड़ा भाजपा के कार्यकाल में हमेशा राजनीतिक भेदभाव के निशाने पर ही रहा है।उन्होंने कहा की भाजपा की जिला काँगड़ा के प्रति कथनी व करनी में अंतर् होने के कारण विधानसभा के चुनावों में इस जिला की प्रबुद्ध जनता ने 10 विधानसभा की सीटों पर कांग्रेस के पक्ष में जनादेश देकर प्रदेश की कांग्रेस सरकार के गठन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका दर्ज की है। कॉग्रेस प्रवक्ता सपन सूद ने कहा की मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू के मात्र 9 माह के कार्यकाल में ही चिड़ियाघर व गोल्फ मैदान की सौगात जिला काँगड़ा को मिलने से लोगों को सुख की सरकार का आभास हुआ है। वही उनके द्वारा प्रदेश की सत्ता संभालने के उपरांत सेंट्रल यूनिवर्सिटी का निर्माण कार्य शुरू होने पर लोगों में कांग्रेस पार्टी की सरकार के प्रति राजनीतिक विश्वास सुदृढ़ हुआ है। कांग्रेस प्रवक्ता सपन सूद ने कहा की मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू की जनहितैषी नीतियों के कारण उनकी बढ़ती राजनीतिक लोकप्रियता को पचा पाना भाजपा नेताओं के लिए गले की हड्डी बन गई है। उन्होंने दावा किया की लोकसभा चुनावों में भी मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू की राजनीतिक कार्यप्रणाली से भाजपा को कांग्रेस के हाथों मुंह की खानी पड़ेगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments