सरकाघाट में मजदूरों ने निकली रैली, सौंपा ज्ञापन

(सरकाघाट)रितेश चौहान

सीटू से सबंधित मज़दूर यूनियनों ने आज सरकाघाट में रैली का आयोजन किया।जिसका नेतृत्व सीटू के ज़िला प्रधान व पूर्व ज़िला पार्षद भूपेंद्र सिंह मनरेगा मज़दूर यूनियन के महासचिव प्रकाश वर्मा, ऑउटसोर्स मज़दूर यूनियन की प्रधान रेखा देवी व सचिव सन्तोष कुमार,मिड डे मील यूनियन की प्रधान डोलमा देवी व सचिव निशा देवीव किसान सभा के दिनेश काकू,मान सिंह और रन्ताज राणा तथा सुरेश शर्मा ने किया।

मजदूरों ने सरकाघाट बाज़ार में अपनी मांगों के लिए रैली निकाली औऱ एस डी एम के माध्यम से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा।जिसमें सरकार से चार श्रम अचार सहिंताओं को रद्द करने तथा फिक्स टर्म और ऑउटसोर्स और अनुबंध आधारित रोज़गार देने की नीति को समाप्त करने की मांग की और उसके स्थान पर स्थायी और रैगुलर आधार पर रोज़गार देने की पालसी लागू करने की मांग की है।

मनरेगा मजदूरों को साल दो सौ दिन काम देने और 350 रु मज़दूरी देने की मांग की गई है।सीटू ज़िला प्रधान भूपेंद्र सिंह ने कहा कि हिमाचल सरकार मनरेगा मजदूरों के साथ मज़दूरी के मामले में भेदभाव कर रही है।जिसके चलते अन्य दिहाड़ीदारों को 350 और मनरेगा मजदूरों को 203 रु दे रही है और समान काम का समान वेतन नहीं दे रही है।इसके अलावा नगर निगम क्षेत्र और सरकाघाट अस्पताल तथा सीवरेज ट्रीटमैंट प्लांट पपलोग और बरछवाड में ऑउटसोर्स आधार पर रखे गए मजदूरों को पक्का करने की भी मांग उठाई गई।

इसके अलावा मिड डे मील, आंगनवाड़ी कार्यकर्र्ताओं और आशा वर्करों को सरकारी कर्मचारी घोषित करने तथा उन्हें पेंशन देने की मांग की गई।जलशक्ति विभाग में कम वेतन पर रखे गए मजदूरों को विभाग में समायोजित करने की मांग उठाई गई।इसके अलावा बढ़ती महँगाई को नियंत्रित करने तथा वेतन में बृद्धि मूल्य सूचकांक के आधार पर करने की भी मांग की गई।इसके अलावा राज्य श्रमिक कल्याण बोर्ड का कार्यलय जल्दी सरकाघाट में खोलने तथा लंबित लाभ जारी करने की मांग की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!