पठानकोट

सरकारी स्कूलों के अध्यापकों ने फिर से शुरू की आनलाइन कक्षाएं

कई स्कूलों ने आनलाइन कक्षाओं का बनाया टाईम टेबल

(पठानकोट)सूरज सैनी

राज्य में कोरोना मामलों में लगातार हो रहे वृद्धि के मद्देनज़र सरकार की तरफ से लागू की कोविड -19 की पाबंदियों के चलते पिछले सैशन की तरह इस बार भी स्कूली विद्यार्थियों की परीक्षाएं कोरोना के साए के नीचे आ गई हैं। राज्य सरकार की तरफ से 31 मार्च तक विद्यार्थियों के लिए स्कूल बंद किये जाने के साथ सरकारी स्कूलों की नान बोर्ड कक्षाओं की चल रही घरेलू परीक्षाएं और पांचवी कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं बीच अधर लटक गई हैं। आठवीं कक्षा की 22 मार्च से शुरू होने वाली बोर्ड परीक्षाएं भी अगले आदेशों तक लटक गई हैं। पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की तरफ से अप्रैल महीने दौरान दसवीं और बारहवीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षायों की डेटशीट का ऐलान किया हुआ है।

राज्य सरकार की तरफ से कोरोना बचाव से लागू पाबंदियों के चलते 31 मार्च तक विद्यार्थियों के स्कूल न आने की पाबंदियों ने विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षाएं ख़ास कर दसवीं और बारहवीं कक्षाओं की परीक्षाओं के बारे शिक्षा विभाग के आधिकारियों, अध्यापकों और अभिभावकों समेत विद्यार्थियों को चिंता में डाल दिया है। शिक्षा सचिव श्री कृष्ण कुमार की तरफ से ख़ुद सप्ताहिक मीटिंग दौरान मुख्य दफ़्तर के आधिकारियों, जिला शिक्षा आधिकारियों, ब्लाक शिक्षा आधिकारियों और जिला स्तरीय टीमों के साथ इस मुद्दे पर विचार विमर्श दौरान सरकार की तरफ से कोरोना बचाव पाबंदियों की पालना करते विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ जोड़े रखने की जरूरत पर जोर दिया।

जिला शिक्षा अफसर सेकेंडरी वरिंदर पराशर और जिला शिक्षा अफसर एलिमेंट्री बलदेव राज ने बताया कि जिले के समूह स्कूलों को जहां स्कूलों में कोरोना बचाव के निर्देशों की पालना यकीनी बनाने के लिए कहा गया है वहां ही कोरोना हालातों के मद्देनजर होने पर होने वाली स्कूली विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षाओं की तैयारी के लिए विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ जोड़े रखने के लिए भी कहा गया है।

 

शिक्षा अधिकारीयों ने बताया कि सरकारी स्कूलों के अध्यापकों की तरफ से पिछले सैशन दौरान स्कूलों की तालाबन्दी के समय भी आनलाइन पढ़ाई से विद्यार्थियों की पढ़ाई के होने वाले संभावी नुक्सान की काफ़ी हद तक पूर्ति कर ली थी। उन्होंने कहा कि सरकारी पाबंदियों के चलते अध्यापक और विद्यार्थियों का सीधा संबंध ख़त्म होने पर सरकारी स्कूलों के अध्यापकों की तरफ से फिर से आनलाइन पढ़ाई की शुरुआत करते बोर्ड कक्षाओं के विद्यार्थियों की ज़ूम कक्षाएं लगाने समेत सामाजिक सहयोग के साथ किये जा सकने वाले व अन्य साधनों से विद्यार्थियों की परीक्षाओं तैयारी का आलम जारी रखा हुआ है। उप जिला शिक्षा अफ़सर सेकेंडरी राजेश्वर सलारीया और उप जिला शिक्षा अफसर एलिमेंट्री रमेश लाल ठाकुर ने कहा कि सरकारी स्कूलों के किसी भी विद्यार्थी की परीक्षा तैयारी प्रभावित नहीं होने दी जायेगी। शिक्षा अधिकारीयों ने बताया कि आनलाइन पढ़ाई के लिए बारहवीं कक्षा के सभी विद्यार्थियों को सरकार की तरफ से स्मार्ट मोबाइल फ़ोन मुफ़्त उपलब्ध करवाए हुए हैं। आनलाइन पढ़ाई के साधन से खाली दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों को बड्डी ग्रुपों और समाज की मदद के साथ आनलाइन पढ़ाई के साथ जोड़ा गया है।
सरकारी सीनियर सेकंडरी स्कूल धारकलां के प्रिंसिपल नसीब सिंह सैनी ने बताया कि उनके स्कूल अध्यापकों की तरफ से स्कूल समय की तरह ही आनलाइन टाईम टेबल बना कर ज़ूम कक्षाएं लगाईं जा रही हैं। सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल बधानी की प्रिंसिपल रघुबीर कौर, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल घ्याला की प्रिंसिपल कमलदीप कौर, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल भोआ की प्रिंसिपल भुपिन्दर कौर, सरकारी सीनियर सेकंडरी स्कूल कौतरपुर के प्रिंसिपल हरिन्द्र सिंह सैनी, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल जंगल के लैक्चरर सिद्धार्थ चंद्र, सससस मीरथल की लैक्चरर सुनीता अत्तरी ने बताया कि उनके स्कूलों के अध्यापकों की तरफ से भी बोर्ड कक्षाओं के विद्यार्थियों की आनलाइन कक्षाएं शुरू कर दीं गई हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!