सैंज की होनहार बेटी ने बढ़ाया घाटी का मान

फिजियोथैरेपिस्ट के रूप में हरियाणा में देगी सेवाएं

डॉ शिवांगी पालसरा बोली गृह क्षेत्र में देगी मुफ्त सेवाएं

स्वतंत्र हिमाचल
प्रेम सागर चौधरी (सैंज)

बदलाव के इस दौर में जिला कुल्लू की बेटियां हर क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर रही है। घाटी की बेटियां शिक्षा, खेल, संगीत, इंजीनियरिंग, मेडिकल, पुलिस, प्रशासनिक सेवा, और अन्य क्षेत्रों में अपना परचम लहरा रही है। इसी कड़ी में जिला कुल्लू के सैंज निवासी समाज सेवक एवं युवा नेता थरबन पालसरा की होनहार बेटी डॉक्टर शिवांगी पालसरा ने महाऋषि मारकंडेश्वर विश्वविद्यालय अंबाला से भौतिक चिकित्सा में फिजियोथैरेपिस्ट एवं पुनर्वास की उपाधि पाकर सैंज क्षेत्र का मान बढ़ाया है।

जिस कारण क्षेत्र में खुशी का माहौल है जबकि ग्रामीण माता पिता व परिजनों को बधाइयां दे रहे हैं। भौतिक चिकित्सा एवं पुनर्वास में उपाधि पाकर डॉक्टर शिवांगी पालसरा ने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए माता पिता व गुरुजनों का आभार जताया है। उन्होंने बताया कि फिजियोथैरेपी आज की दुनिया में जहां बढ़ता हुआ पेशा है वही मानव शरीर को इसकी जरूरत भी है। डॉक्टर शिवांगी ने बताया कि महर्षि मारकंडेश्वर विश्वविद्यालय मुलाना मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त है और उत्तरी भारत के अग्रणी संस्थानों के अलावा इस संस्थान ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त की है। डॉक्टर शिवांगी ने बताया कि मुझे गर्व है कि जिस संस्थान में मैंने डिग्री हासिल की है उसी संस्थान ने मुझे फिजियोथैरेपी में नियुक्त किया है।उल्लेखनीय यह भी है कि हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा के झंडे गाड़ने वाली बेटियों को उत्साहित करने के लिए प्रदेश सरकार ने कई योजनाएं चलाई हुई है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को सफल बनाने के लिए सरकार ने किशोरियों को मार्गदर्शन,, काउंसलिंग, मेडिकल चेकअप एवं आत्म रक्षा के लिए तैयार करने हेतु विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जाती है। उधर बंजार के विधायक सुरेंद्र शौरी ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि सैंज की बेटी ने कड़ी मेहनत से यह मुकाम हासिल किया है तथा इससे क्षेत्र की अन्य बेटियों को भी आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। वहीं जिला परिषद सदस्य विभा सिंह ने कहा कि होनहार बिरवान के होत चिकने पात। डॉक्टर शिवांगी के माता पिता समाज सेवी थरवन पालसरा और प्रभा पालसरा ने बताया कि उनकी बेटी बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि की थी तथा डॉक्टर बनकर बेटी ने बुद्धिमानी की छवि दिखाई है। बरहाल सैंज की बेटी ने फिजियोथैरेपी में डॉक्टर बनकर घाटी का मान बढ़ाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!