कुल्लू

35 छात्र संख्या के स्कूलों में भी जल्द भरे जाएंगे ड्राइंग और शारीरिक शिक्षकों के पद

कहा, कला व शारीरिक शिक्षकों की भर्ती में आरटीई का उल्लघंन भी नहीं होगा तथा ये पद भी भरे जाएगें

 

 

स्वतंत्र हिमाचल
(आनी) विनय गोस्वामी

राजकीय सी०एण्ड वी० अध्यापक संघ की बैठक शिक्षा निदेशक शुभकरण के साथ निदेशालय में हुई जिसमें शिक्षा निदेशक ने कहा कि आरटीई में कला व शारीरिक शिक्षकों के पद न भरे जाएँ ऐसा कहीं नहीं लिखा है, हां ऐसा जरुर लिखा है कि जिन माध्यमिक स्कूलों में 100 से ज्यादा बच्चे पढ़ते हैं वहां ये पद प्राथमिकता से भरे जाएं। शिक्षा निदेशक ने कहा कि जिन माध्यमिक स्कूलों में बच्चों की संख्या 35 होगी उन स्कूलों में ये पद प्राथमिकता से भरे जाएं, ऐसा प्रस्ताव सरकार को शिक्षा विभाग द्वारा भेजा गया है, जिससे आरटीई नियम का उल्लघन भी नही होगा तथा इन पदों में भर्ती भी की जा सकती है।

प्रदेशाध्यक्ष चमन लाल शर्मा ने कहा कि कला व शारीरिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया 2017 तक लगातार होती रही जबकि आरटीई प्रदेश में 2010 से लागू हुई है। लेकिन 2018 के बाद आज तक एक भी उक्त पद नही भरा गया। शिक्षा निदेशक महोदय ने कहा कि आरटीई में 100 बच्चो की संख्या वाले स्कूलों में इन पदों को प्राथमिकता से भरने की बात कही है लेकिन आरटीई में इन पदों को न भरने की बात नहीं लिखी है। बच्चे कला व शारीरिक शिक्षा के विषय को पढ़ना चाहते है,उन्हे इन विषयों को पढ़ने से वंचिंत नही रखा जा सकता ।

आए दिन लाकडाउन के समय भी बच्चो की पेटिंग प्रतियोगिता करवाने के आदेश शिक्षा विभाग ने जारी किए जब स्कूलो में अध्यापक नहीं होंगें तो बच्चे प्रतियोगिता में भाग कैसे लेंगे।

प्रदेशाध्यक्ष चमन लाल शर्मा ने सरकार से आग्रह किया है, कि जिन माध्यमिक स्कूलों में बच्चो की संख्या 35 है ,उन स्कूलों में कला व शारीरिक शिक्षकों के पदों को प्राथमिकता के साथ भरा जाए ताकि बच्चो के साथ भेदभाव न हो।

क्योंकि हाई व सीनियर सकैन्डरी स्कूलों में छठी,सातवीं तथा आठवीं कक्षा के बच्चों को दोनों विषयो के अध्यापक उपलब्ध हैं,लेकिन माध्यमिक स्कूलों में इन विषयों के अध्यापक नही हैं। जबकि दोनों विषयों की बेसिक पढ़ाई छ्ठी कक्षा से आरम्भ होती है, इसलिए जिन माध्यमिक स्कूलों में बच्चों की संख्या 35 है उन स्कूलो में झ्न विषयों के पदों को भरने की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!