ऊना

शांति व भाईचारा हिमाचल प्रदेश के विकास का आधारः सत्ती

पूर्ण राज्यत्व स्वर्ण जयंति दिवस पर ऊना में 6 स्थानों पर आयोजित किया गया समारोह

शिमला से राज्य स्तरीय कार्यक्रम का दिखाया गया सीधा प्रसारण

(ऊना )ललित ठाकुर

पूर्ण राज्यत्व दिवस की स्वर्ण जयंति के उपलक्ष्य पर 25 जनवरी को जिला ऊना में छह स्थानों पर शिमला से राज्य स्तरीय कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिखाया गया, जिसे लोगों ने बड़े उत्साह के साथ देखा। जिला स्तरीय कार्यक्रम को आयोजन राजकीय महाविद्यालय ऊना में किया गया, जिसकी अध्यक्षता छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने की। इसके अतिरिक्त सभी उपमंडलों में भी कार्यक्रम आयोजित किए गए।


अपने संबोधन में सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि पिछले 50 वर्षों में हिमाचल प्रदेश ने विकास के नए मुकाम हासिल किए हैं, जिसका श्रेय राज्य के मेहनती व ईमानदार लोगों का जाता है। पूर्ण राज्यत्व दिवस की शुभकामनाएं देते हुए सत्ती ने कहा कि शांति व भाईचारा ही हिमाचल प्रदेश के विकास का आधार है, जिसे हमें बरकरार रखना है। प्रदेश ने अपनी विकास यात्रा शून्य से शुरु की और बीते 50 वर्ष में हिमाचल ने, जो विकास किया, वो अन्य पहाड़ी राज्यों के लिए ही नहीं बल्कि देश के बड़े राज्यों के लिए भी प्रेरणादायक है। इसके लिए राज्य के सभी मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं। हिमाचल प्रदेश को शिखर पर पहुंचाने में राज्य के मेहनती अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
उन्होंने कहा कि हिमाचलवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रदेश में छह मेडिकल कॉलेज स्थापित किए गए हैं। ऊना में पीजीआई अस्पताल, बिलासपुर में अत्याधुनिक सुविधाओं वाला एम्स खोला गया है। वर्ष 1970-71 में हिमाचल प्रदेश में लगभग 5 हजार शिक्षण संस्थान थे, जबकि वर्ष 2019-20 में यह संख्या बढ़कर 15,368 हो गई है। आज सरकारी एवं निजी क्षेत्र में कुल 23 विश्वविद्यालय, आई.आई.आई.टी. जैसे उच्च स्तरीय संस्थान क्रियाशील हैं।
सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि 3 अक्तूबर, 2020 प्रदेश के लिए एक महत्त्वपूर्ण दिन था, जब जिला कुल्लू के रोहतांग में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अटल टनल, रोहतांग को लोगों को समर्पित किया। दस हजार फीट की ऊंचाई पर बनाई गई यह टनल जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर को हर मौसम में सड़क सुविधा प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि हमारा राज्य समृद्ध जल संसाधनों से संपन्न है। वर्ष 1970-71 में 52,841 किलोवाट प्रति घंटा बिजली के मुकाबले, अब विभिन्न क्षेत्रों के तहत लगभग 10,756 मेगावाट क्षमता का दोहन किया जा चुका है। जिसके चलते आज हिमाचल देश में पावर सरप्लस स्टेट बन गया है।
सब विकास में दे योगदान
छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कार्यक्रम में उपस्थित नवनिर्वाचित पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों को कहा कि चुनाव संपन्न गए हैं और अब सभी विचारधारा से ऊपर उठकर हिमाचल प्रदेश के विकास में सहयोग दें।
इससे पहले उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने मुख्यतिथि सहित सभी का कार्यक्रम में पधारने पर स्वागत किया। कार्यक्रम के दौरान रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी आरएम शर्मा ने भी विशेष वक्ता के रूप में हिमाचल के विकास पर अपने विचार साझा किए।
इस अवसर पर एसपीएसआईडीसी के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार, भाजपा जिला अध्यक्ष मनोहर लाल शर्मा, महामंत्री राजकुमार पठानिया, मंडल अध्यक्ष हरपाल सिंह गिल, एपीएमसी अध्यक्ष बलबीर बग्गा, एसपी अर्जित सेन ठाकुर, एडीसी डॉ. अमित कुमार शर्मा सहित अन्य अधिकारी, नव निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधि, महिला मंडलों के सदस्य और बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!