शिमला

वर्किंग कैपिटल ग्रांट को आंदोलन

निजी बस आपरेटर्ज में रोष, मंत्रिमंडल की बैठक में मांगी राहत

(शिमला)सुनीता भारद्वाज

स्पेशल रोड टैक्स को माफ करने और वर्किंग कैपिटल ग्रांट जारी करने की मांग पर प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर अड़ गए हैं। निजी बस ऑपरेटर्ज ने साफ कर दिया है कि अगर 15 मार्च को होने जा रही मंत्रिमडल की बैठक में उनकी मागों को पूरा नहीं किया गया तो प्रदेश क निजी बस आपरेटर अपनी मागों को लेकर आंदोलन शुरू कर देगें। यूनियन ने चेतावनी दी है कि ऑपरेटर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर भी जा सकते हैं।

इसमें भूख हड़ताल व बसों को खड़ा किया जा सकता है। हिमाचल प्रदेश निजी बस आपरेटर यूनियन के महासचिव रमेश कमल ने कहा कि निजी बस आपरेटर्ज की तरफ  से राज्य सरकार को चार करोड़ हर माह स्पेशल रोड टैक्स के रूप में दिया जाता है और प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर अगस्त, 2020 से 31 मार्च, 2021 तक स्पेशल रोड टैक्स माफ करने  की मांग कर रहे हैं,

मगर राज्य सरकार द्वारा निजी बस ऑपरेटर्ज की इस मांग को पूरा नहीं किया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि एचआरटीसी भी टैक्स को लेकर के 220 करोड़ की देनदार है। एचआरटीसी को सारी सुविधाएं दी जा रही हैं, जबकि निजी बस ऑपरेटर पर कानून का डंडा चलाया जा रहा है, जो सरासर अन्याय है।

बसों में काले झंडे लगाकर विरोध

निजी बस ऑपरेटर संघ के प्रदेश महासचिव रमेश कमल कि अगर मंत्रिमडल की बैठक में उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर संघर्ष का बिगुल फूंक देंगे। इसके पहले चरण में एक दिन बसों में काले झंडे लगाकर विरोध जताएंगें, जबकि उसके बाद अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी जाएगी, जिसमें भूख हड़ताल के साथ-साथ बसों को खड़ा किया जा सकता है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!