अहंकार में चूर मोदी सरकार किसानों के आंदोलन को कुचलने पर तुली : बबलू

स्वतंत्र हिमाचल

(अम्ब)अविनाश

कांग्रेस सेवादल यंग ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष सुदर्शन सिंह बबलू ने कृषि बिल को लेकर किसानों के विरोध को जायज ठहराया है। उन्होंने कहा कि अगर किसान कृषि बिल में एमएसपी सहित कुछ बिंदुओं को लेकर अपना मोदी सरकार के समक्ष विरोध जता रहे हैं तो उसमें गलत क्या है। उन्होंने कहा कि भारतीय लोकतंत्र सभी अपना विरोध दर्ज करवाने का हक देता है तो केंद्र की मोदी सरकार कौन होती है। किसानों के इस प्रदर्शन को गलत ठहराने वाली? बबलू ने दिल्ली कूच रहे कर रहे पंजाब और हरियाणा के किसानों के साथ हरियाणा सरकार की बर्बरता पूर्ण कार्यवाही को भी बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि किसान शांतिपूर्वक आंदोलन कर रहे हैं और सरकार द्वारा किसानों के साथ दुश्मनों जैसा व्यवहार किया जा रहा है।


सुदर्शन सिंह बबलू रविवार यहां आयोजित एक प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि किसानों की फसल की लागत का 2 गुना मूल्य और 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने जैसे लोकलुभावन वादे करके किसानों की बदौलत दिल्ली के सिंहासन तक पहुंचने वाली मोदी सरकार अब अपना हक मांगने एवं शोषण के खिलाफ आवाज उठाने वाले किसानों के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार कर रही है। उन्होंने कहा कि नए कृषि बिल के विरोध में किसानों का आंदोलन बहुत लंबे समय से चलते आ रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि जिन बिंदुओं पर किसानों को शंका है उसके समाधान के लिए किसानों से बातचीत कर करने के बजाय अपने अहंकार में चूर मोदी सरकार होकर उनके आंदोलन को कुचलने पर तुली हुई है। लेकिन मोदी सरकार को याद रखना चाहिए कि जो किसान बंजर जमीन का भी सीना चीरकर अन्न उगा सकता है तो वहीँ किसान अपने हक के लिए ऐसी अहंकारी सरकारों को घुटने टेकने को भी मजबूर कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!