कुल्लू

मौसम विभाग का पूर्वानुमान,मैदानी क्षेत्रों में 14 फरवरी तक मौसम साफ

पहाड़ी इलाकों में आज बारिश-बर्फबारी

 

 

स्वतंत्र हिमाचल

(कुल्लू) सुरेश भारद्वाज

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर, लाहुल स्पीति, कुल्लू, मनाली व जिला शिमला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में  मंगलवार को कुछ स्थानों पर बारिश-बर्फबारी होगी। मौसम विभाग द्वारा राज्य के इन क्षेत्रों में बारिश बर्फबारी होने का पूर्वानुमान लगाया है। दूसरी तरफ मैदानी व मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 14 फरवरी तक मौसम साफ बना रहेगा। 10 फरवरी से ऊंचाई वाले क्षेत्रों में भी मौसम शुष्क बना रहेगा। प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में सोमवार को मौसम साफ बना रहा। दिन के समय धूप खिली रही, जिससे अधिकतम तापमान में फिर से बढ़ोतरी रिकॉर्ड की गई है।

अधिकतम तापमान में एक से तीन डिग्री का उछाल दर्ज किया गया है। भुंतर, कल्पा, सोलन व डलहौजी के तापमान में सबसे ज्यादा तीन डिग्री का इजाफा रिकॉर्ड किया गया है। इसके अलावा न्यूनतम तापमान में भी एक से पांच डिग्री तक का इजाफा रिकॉर्ड किया गया है। मौजूदा समय में कल्पा व केलांग का पारा माइनस डिग्री में चल रहा है। रात को यहां कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने बताया कि प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में मंगलवार को बारिश-बर्फबारी होगी, जबकि शेष हिमाचल में मौसम साफ बना रहेगा।

165 लिंक रोड पर अभी भी यातायात ठप

शिमला। हिमाचल प्रदेश अभी भी तीन नेशनल हाई-वे, एक स्टेट हाई-वे सहित 165 ग्रामीण सड़कों पर यातायात थमा हुआ है। प्रदेश में दो पेयजल योजनाएं भी अवरुद्ध चल  रही हैं। वहीं, 146 डीटीआर भी ठप चल रहे हैं। इससे लोगों को सर्द रातें अंधेरे में काटनी पड़ रही हैं। प्रदेश के कुल्लू में दो नेशनल हाई-वे बंद हैं। इसमें एनएच-03 रोहतांग पास, एनएच-305 जलोरी पास बंद हैं। लाहुल-स्पीति में एनएच-505 वाहनों की आवाजाही के लिए अवरुद्ध चल रहा है। यहां पर स्टेट हाई-वे 26 भी यातायात के लिए बंद चल रहा है। प्रदेश में 165 ग्रामीण सड़कें यातायात के लिए बंद चल रही है। सबसे ज्यादा लाहुल स्पीति में 94 सड़कें बंद हैं। चंबा में एक, किन्नौर में पांच, कुल्लू में 26, मंडी में चार और शिमला में 40 सड़कें यातायात के लिए अवरूद्व चल रही हैं। वहीं, प्रदेश में बर्फबारी के बाद पांचवें रोज भी 146 डीटीआर भी बंद चल रहे हैं। इसमें शिमला में सबसे ज्यादा 141 और सोलन में 05 डीटीआर बंद हैं। इनके बंद होने से लोगों को सर्द रातें अंधेरे में काटनी पड़ रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!