मंडी

पैहड, कुम्हाँरड़ा और बनेरढी पंचायतों में पशु औषधालय जोगीखाला पिछले सात माह से एक पशु पालन प्रचारक के सहारे

सात माह से फ़ार्मासिस्ठ का पद चल रहा है रिक्त

स्थानीय जनता को झेलनी पड़ रही है परेशानी
क़बीना मंत्री नहीं दें रहे है ध्यान: कांग्रेस

(सरकाघाट)रितेश चौहान

धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र के काविना और सरकार में नंबर दो के मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के जिला गृह क्षेत्र की अंतिम छोर में पिछड़ी हुई पंचायत पैहड, कुम्हारढा और बनेरढी तीनों पंचायत में लगभग 4500 के करीव आबादी है और इन पंचायत में एक मात्र पशु औषधालय लगभग 1983 में खोला गया है।यहां पर एक बैटनरी फ़रमासिस्ट का पद 7 माह से ख़ाली चल रहा है l आज तक यहां पर कोई भी फरमासिष्ट नहीं आया है। यहां केवल एक पशु पालन प्रचारक अपनी सेवाए दें रहा है।

मजे की बात यह है की यह तीनों पंचायतें लगभग 15 किलोमीटर के दायरे में फैली हुए है। ब्लॉक कांग्रेस सचिव रमेश चंद ने कहा की अगर किसी भी आदमी का अगर कोई भी पशु जैसे की गाय,भैस, बकरी भेड़, घोड़ा एवं कुत्ता इत्यादि बीमार हो जाता है और पशु पालन प्रचारक को अगर हयोलग या कुम्हारडा से फोन आ जाता है तो वह वहाँ उन पशुओ का इलाज करने के लिए चला जाता है और उन्हें मजबूरन पशु औसधालय को ताला लगाकर जाना पड़ता है और वही अगर कोई मलोन गांव से दवाई लेने आता है तो उसे वहा पर लगभग 3 से 4 घंटे तक इंतजार करना पड़ता है और इससे स्थानीय लोगों का बहुत समय बर्बाद हो जाता है।

उन्होंनो काविना मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर और भाजपा सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए कहा है की जैसे – जैसे हिमाचल प्रदेश में भाजपा की सरकार बनती है तो तैसे- तैसे ही पैहड़, बनेरढी और कुम्हारडा पंचायत के साथ भेद भाव किया जाता है उन्होंने यह भी कहा है कीजब कांग्रेस की सरकार थी तो पैहड़, बनेरधी, और कुम्हारढा पंचायत में सभी स्कूलों और अन्य विभागों में कर्मचारियों के पद भरे हुए थे जैसे ही भाजपा की सरकार सता पर आई और महेंद्र सिंह मंत्री बने उसी समय से लेकर सभी के तबादले किए जा रहे है।
उन्होंने यह भी कहा की जब भी महेंद्र सिंह का टूर प्रोग्राम बनेरढी, कुम्हारढा और पैहड़ पंचायत का होता है तो जो भी इन तीनों पंचायतो के छुट् भैया नेते है वह सभी महेंद्र के आगे पीछे घूमते है और सभी की जुबान पर ताला लगा होता है किसी को भी यह बोलने की हिम्मत नहीं होती है की मंत्री साहव हमारे स्कूलों पशु चकित्सालय,विजली विभाग,आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी और प्राइमरी हेल्थ सेंटर इत्यादि में स्टॉफ नहीं है।
सभी छुट्ट भैया नेते डरे और सहमे हुए होते है।
ब्लॉक कांग्रेस सचिव ने कहा की वहा तो केवल पानी के पाइपो की ही बात होती है इन छुट्ट भैया नेताओं को विकास केवल पानी की पाइप मिलने में ही दिखाई देता है।
वही उन्होंने यह भी कहा है की यहां पर बनेरढी और कुम्हारडा पंचायतो में भाजपा के ही उप प्रधान वने हुए है उन उप प्रधानों को यह नहीं दिखाई देता की हमारे यहां पर कौन – कौन से विभाग में कौन से पद रिक्त चल रहे हैं वो लोग भी मंत्री के आगे अपनी जुबान नहीं खोल सकते है।

वह भी केवल पाइप तक ही सिमित है बाकी जनता की कोई चिंता नहीं है। उन्होंने सरकार और मंत्री को खुली चुनौती दी है की अगर जोगीखाला पशु औसधालय में एक माह के अंदर – अंदर बेटनरी फरमाशीस्ट का रिक्त पड़ा पद में अगर किसी की तैनाती नहीं की गई तो सरकार और मंत्री के खिलाफ माननीय उच्च न्यायालय में स्थानीय लोगों द्वारा जनहित याचिका की जाएगी।
क्युकी यहा तीनों पंचायतों पर स्थानीय लोगों को पिछले सात माह से भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। सरकार और मंत्री स्थानीय जनता की सब्र का इम्तहान न ले। शीघ्र बेटनरी फरमार्शीस्ट की तैनाती की जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!