मंडी

स्वर्गीय भूतपूर्व सैनिक की धर्मपत्नी को मिलती है पेंशन फिर भी दयनीय हालत में

घर की हालत जर्जर बरसात में टपकती है छत अब तक मिले सरकारी पैसे का कोई हिसाब नहीं

 

स्वतंत्र हिमाचल (मंडी) टेकचंद ठाकुर

उपमंडल बल्ह के गुरुकोठा में रहने वाले एक पूर्व फौजी फागणू राम की विधवा पत्नी सावित्री देवी दयनीय हालत में गुजर-बसर कर रही है हालांकि सरकार की तरफ से उनको हर महीने 9000 के आसपास मासिक पेंशन भी दी जाती है लेकिन उनको वह पेंशन नहीं मिल पाती उनकी बेटियों में से ही कोई उनकी पेंशन लेता है और अपने पास रखता है जब इस विषय में उनके दामाद से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हम पैसा अपने पास रख रहे हैं और उनके घर का काम शुरू करेंगे लॉक डाउन की वजह से ऐसा नहीं हो पाया कुछ समय बाद हम उनके घर का निर्माण कार्य शुरू कर देंगे

उल्टा जब वर्तमान में सावित्री देवी जी के घर की स्थिति देखते हैं तो वह बहुत ही दयनीय है घर की छत थोड़ी सी बारिश होने पर टपकती है दरवाजे खिड़कियां जर्जर हालत में है सवाल यही है कि अगर सरकार परिवार की मदद करती भी है फौजि की विधवा को पेंशन मिलती भी है तो उसका फायदा सीधे तौर पर उनको क्यों नहीं मिलता, सरकार की इस नीति का कोई फायदा नहीं है जब उनके मिलने वाले पैसे का हिसाब किताब कोई और ही रख रहा है और उनके रहने तक के लिए सही मकान अभी तक नहीं बन पाया किसके नाम पर पेंशन है पैसा उन्हें ही मिलना चाहिए और उसका अंतिम अधिकार उनका होना चाहिए चाहे वह उस पैसे का जो मर्जी करें जबकि ऐसा हो नहीं रहा है सरकार और प्रशासन को इस स्थिति में कड़ा संज्ञान लेना चाहिए कि उनको मिलने बाली पेंशन को कोई और कैसे अपने पास रख सकता है इस महिला को रहने के लिए पक्के और सुरक्षित घर का इंतजाम भी प्रशासन को करवाना चाहिए

जब महिला से इस विषय में बातचीत की गई तो उनकी तरफ से कोई संतुष्टि जनक जवाब नहीं मिला ना ही वह सही ढंग से बात करने में समर्थ है उनको सुनाई भी नहीं देता

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!