एक साल से एक करोड़ की लागत से बनी सिंचाई योजना का नहीं मिल रहा लाभ

स्वतंत्र हिमाचल
(आनी) विनय गोस्वामी

जलशक्ति विभाग के आनी मण्डल के अंतर्गत देवरी खड़ से लामिसेरी सिंचाई योजना का रुना, लामिसेरी, शरण धार आदि गांवों की जनता को एक साल से लाभ नहीं मिल पा रहा है।
फलस्वरूप जहां किसानों की फसलें तबाह हो रही हैं, वहीं किसानों में जलशक्ति विभाग के प्रति रोष भी पनपने लगा है।
गौर रहे कि इस वर्ष समय और बारिश न होने और सिंचाई योजना के खराब पड़े होने के कारण दालों सहित कई फ़सले नष्ट हुई हैं।
रुना, लामिसेरी और शरणधार आदि गांवों के लोगों का कहना है कि समस्या को लेकर उन्होंने जलशक्ति विभाग को अवगत भी करवा दिया है।
लेकिन आज तक समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ।


गौर रहे कि देवरी खड से लामीसेरी तक यह सिंचाई योजना करीब 3 साल पहले 1 करोड़ 11 लाख 74 हजार रुपयों की लागत से बनकर तैयार हुई थी।
करीब साढ़े 6 किलोमीटर लंबी इस सिंचाई योजना से रुना, लामीसेरी, शरणधार के अलावा झरोहन, जिउण्डी, रझौड़ी, पनेउ, गुरुवा,नागधार,खोड़ा, चरका, आदि कई अन्य गांवों को लाभ मिलना है।
लोगों का कहना है कि इस योजना के अंतिम छोर पर होने के कारण रुना,लामिसेरी और शरणधार के अलावा बाकी सभी गांवों को सिंचाई योग्य जल उपलब्ध करवा जा रहा है।
लेकिन पाइप लाइन में इसके आगे आने वाली समस्या को जलशक्ति विभाग दुरुस्त नहीं कर पा रहा है।
लोगों का कहना है कि जलशक्ति विभाग द्वारा उनकी जमीन में बनाये गए भंडारण टैंक खाली पड़े हैं। लोगों का कहना है कि जलशक्ति विभाग की इस योजना को लोगों ने खुशी खुशी इस आस में अपनी जमीन में टैंक बनवाने और पाइपें बिछाने दी थी कि मौसम की मार झेल रही उनकी फसलों को पर्याप्त सिंचाई योग्य जल मिल सकेगा।
लेकिन जलशक्ति विभाग की ढिलाई के चलते उनके सपनों ओर तो पानी फिर गया, लेकिन फसलों को नहीं मिल पा रहा।
उन्होंने बताया कि विभाग और ठेकेदार की लापरवाही के कारण इस योजना में ही कई खामियां हैं।
जगह जगह से पाइप लाइन में रिसाव होता है।
जिसे ग्रामीणों ने अपने ही खर्च पर ठीक भी करवाया था, जिसमे करीब 20 हजार खर्च हुआ था।
लेकिन बार बार लीकेज हो जाने पर अब ग्रामीणों के हाथ भी खड़े हो चुके हैं।
उनका कहना है कि भंडारण टैंक के आगे पानी को वितरित करने के लिए कोई भी पाइप विभाग ने नहीं बिछाई है।
जबकि ग्रामीणों द्वारा खुद ही बिछाई गई अलकाथिन की पाइपें भी एक साल से वाणी की आपूर्ति न होने के कारण खराब हो गयी है।
ग्रामीणों ने जलशक्ति विभाग से इस समस्या के जल्द समाधान की गुहार लगाई है।
वहीं इस बारे में जलशक्ति विभाग के आनी के सहायक अभियंता प्रकाश भारद्वाज का कहना है कि ठेकेदार द्वारा काम अधूरा छोड़ा गया है, जिसे री असाइन करने की प्रक्रिया जारी है।
जबकि भंडारण टैंक से आगे पानी के वितरण की लाइन बिछाने के लिए प्रोपोजल बनाकर भेज दिया गया है।चुनाव आचार संहिता हटने के बाद उसे मंजूरी मिलने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!