आनी क्षेत्र में गाँव की महिलाओं ने पूरे विधि विधान से “बी माता” पर्व का किया समापन

 

 

स्वतंत्र हिमाचल
(आनी) विनय गोस्वामी

 

आनी क्षेत्र में बी माता पर्व धूमधाम के साथ मनाया गया जिसमें आनी क्षेत्र के गाँव बटाला, थबोली,कराणा, शमेशा ,ठोगी आदि गांव में  “बी माता” का पर्व मनाया गया जिसमें भगवान विष्णु शंकर की कथा भी सुनाई गई।

गांव की महिलाओं ने बी माता पर्व के समापन पर पहाडी परम्परा के गीत गाकर इस परंपरा को पूरा किया है,ये धार्मिक पर्व हर साल मनाया जाता है।

बटाला व थबोली गाँव की ग्रामीण महिलाओं ने बढ़चढ़कर भाग लिया भगवान ब्रह्मा से कोरोना काल महामारी को समाप्त करने बारे विशेष पूजा अर्चना की गई है।

जेस्ट महीने के पहले रविवार को जो विधि विधान से बी माता की स्थापना की जाती है, जिसको 11812 की पटरी पर जो इसकी कलाकृति जो चित्र जो बनाएगी जाते हैं बने होते हैं उस पर उभरी हुई होती वह कलाकृतियां और उस पर जो है देवी देवताओं के जो उसमें चिन्ह बनाए होते हैं उन सब की पूजा करते हैं और उसके बाद उसकी विधिवत रूप से पूजा की जाती है 16 दिनों तक घर में पूजी जाने वाली बी माता को आज पूरे विधि विधान के साथ जो विदाई दी गई जिसको पानी की बावड़ी के पास मां पर उसको विदाई दी गई और उसके लिए जो फुलवार में फलों गुरु बनाएंगे वह लोगों को पूरे गांव की जो महिला ब्राह्मण समाज की जो महिलाएं हैं

 

उन सभी महिलाओं ने आपस में एक दूसरे को बांटा और 16 दिन तक इस बी माता की जो कहानी है सुनी, सुनाई, तथा पढ़ी गई,औऱ सतारवें दिन इसकी विदाई हुई।

आनी क्षेत्र के गांव की महिलाओं में बटाला से गीता शर्मा, तारा शर्मा ,सरिता शर्मा, ओमाशर्मा,तिलकाशर्मा, अनीता, विद्याशर्मा, रिन्काशर्मा, थबोली से स्वीटी शर्मा,प्रेमलता शर्मा, जय लक्ष्मी शर्मा, पिंगला शर्मा, सुदर्शन शर्मा, सुनीता शर्मा, रीना शर्मा व सुषमा शर्मा इत्यादि इस पर्व पर हतोत्साहित दिखीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!