15 दिन में पशु डिस्पेंसरी नहीं खुली तो होगा धरना प्रदर्शन – राजेन्द्र कुमार निटू

 

सरकारी तंत्र के दुरुपयोग द्वारा 2021 में इस चराड़ा की डिस्पेंसरी को बंद कर दिया गया है

(बंगाणा)राकेश राणा

जिला ऊना उपमंडल बंगाणा क्षेत्र की ग्राम पंचायत सुकड़ियाल के अंतर्गत गांव तुतडू चराड़ में बेसहारा गोवंश और  अन्य पशुओं के लिए डिस्पेंसरी न होने से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।  गांव चराड़ा में 2013 से पशु आरोग्य धन योजना के तहत जो डिस्पेंसरी खोली गई थी,  जिससे 5 छः गांवों के लोग लाभान्वित होते थे,लेकिन सरकारी तंत्र के दुरुपयोग द्वारा 2021 में इस चराड़ा की डिस्पेंसरी को बंद कर दिया गया है। इसका सामान भी उठाकर कहीं और शिफ्ट कर दिया गया है, जिससे ग्रामीणों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

पूर्व प्रधान ग्राम पंचायत सुकड़ियाल राजेंद्र कुमार नीटू ने कहा कि जिला ऊना के गांवों सहित कांगड़ा जिला के कुछ गांवों को भी यह पशु डिस्पेंसरी सेवाएं देती थी। काफ़ी लंबे समय से यह डिस्पेंसरी चराडा में ही थी लेकिन कुछ समय पहले सरकार और प्रशासन ने मनमर्जी के चलते इसे बंद कर दिया है। हालांकि यहां पर दूसरे जिलों से भारी संख्या में बेसहारा गोवंश गंभीर परिस्थितियों में छोड़ा जाता है। बहुत से पशु घायल होते हैं जिनको उपचार न मिलने से असमय मौत मिल रही है। स्थानीय निवासियों पूर्व वार्ड पंच सुदर्शन सिंह, एसएमसी कमेटी प्रधान मदन लाल कुटलैहडिया, बीरबल सिंह , कर्ण मनकोटिया , पूर्व प्रधान , स्वर्णा देवी व  सतीश कुमार, रूप लाल ,और पूर्व प्रधान राजेंद्र कुमार नीटू ने कहा है कि अगर पंद्रह दिन के अंदर अंदर इस डिस्पेंसरी को पुनः चराडा में नहीं खोला गया तो हमारे लोगों को मजबूरन जिलाधीश महोदय के कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन देना पड़ेगा। जिसकी जिम्मेवारी सरकार और प्रशासन की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!