आनी

प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम चलाने में हिमाचल ज्ञान-विज्ञान समिति क़ी रही है महत्वपूर्ण भूमिका

अप्रैल 2021 से चलने वाले प्रौढ़ शिक्षा अभियान में भी देंगे भरसक सहयोग

स्वतंत्र हिमाचल
(आनी) विनय गोस्वामी

हिमाचल ज्ञान विज्ञान समिति जिला कुल्लू द्वारा 1994 से 2002 तक प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम को चलाने के लिए अपनी अहम भूमिका निभाई। जिसके अंदर शिक्षार्थियों को पुस्तक हिम चेतना भाग 1-2-3 पढ़ाया गया था। और समय-समय पर शिक्षार्थियों का मूल्यांकन भी लिया गया था। 2001 में शिक्षा विभाग डायरेक्टर दिल्ली की टीम द्वारा भी शिक्षार्थियों का मूल्यांकन किया गया था।


जिसमें हिमाचल से जिला कुल्लू प्रथम स्थान में रहा था,और जिला स्तर पर आनी प्रथम स्थान पर रहा था।

प्रौढ़ शिक्षा अभियान को पूर्ण रूप से चलाने के लिए जिला कला जत्था ब्लॉक कला जत्था के अंदर नुक्कड़ नाटक ,गीत ,संगीत, के माध्यम से भी शिक्षार्थियों को प्रौढ़ शिक्षा केंद्रों तक पहुंचाने और पढ़ने लिखने के लिए हिमाचल ज्ञान विज्ञान समिति के हज़ारों कार्यकर्ताओं का पूर्ण सहयोग रहा 2002 के बाद प्रौढ़ शिक्षा अभियान में कोई भी गतिविधियां नहीं चली । और प्रौढ़ शिक्षा अभियान में जुड़े हुए हजारों अनुदेशक ,पंचायत समन्वयक, क्षेत्रीय समन्वयक ,और खंड समन्वयक ,ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन में जुड़कर अपनी स्वयंसेवी भावना से आजकल भी पंचायतों में कार्य कर रहे हैं।

अप्रैल 2021 से चलने वाले प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए हिमाचल ज्ञान विज्ञान समिति विकास खंड आनी तथा निरमंड शिक्षा विभाग से मिलकर अपनी अहम भूमिका निभाएगी।

जिसमें विकास खंड आनी तथा निरमंड से 75 नामों की सूची विभाग को सौंप दी गई है। और 400 अनुदेशकों की नई सूची तैयार करके जल्द ही विभाग को सौंप दी जाएगी।

हिमाचल ज्ञान विज्ञान समिति ने विकास खंड आनी तथा निरमंड के सभी कार्यकर्ताओं से, जिला कुल्लू में चल रहे प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अपना पूर्ण सहयोग करने क़ी अपील क़ी है।

 

विकासखंड आनी तथा निरमंड से जो भी इच्छुक व्यक्ति महिला या पुरुष छात्र-छात्राएं,प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम में अपनी स्वयंसेवी भावना से अपनी ग्राम पंचायत में शिक्षक का कार्य करना चाहते हैं, वे दिए गए संपर्क नंबरों पर विकास खंड निरमंड 8894446630 विकास खंड आनी 9816348371 पर सूचित कर सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!