मंडी

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला हियुण पैहड का भवन जर्जर अवस्था में

स्वतंत्र हिमाचल

(धर्मपुर)डीआर कटवाल

धर्मपुर उपमंडल की वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला हियुण पैहड का कार्यालय कक्ष,प्रधानाचार्य कक्ष,शारीरक शिक्षा कक्ष,जियोग्राफी कक्ष जर्जर अवस्था में हैं और कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है मगर सरकार व विभाग इस विषय पर मौन धारण किए हुए हैं
पूर्व एस.एम. सी.प्रधान एवं ब्लॉक कांग्रेस सचिव ने आरोप लगाया है कि वर्तमान एस.एम.सी.प्रधान और पूर्व पंचायत प्रधान इस कार्य को कराने में असफल रहे हैं उन्होंने कहा कि इस स्कूल में छठी कक्षा से लेकर बाहरवीं कक्षा तक लगभग 120 के करीब छात्र, छात्राएं शिक्षा ग्रहण करते हैं।

हिमाचल सरकार और सरकार पर बैठे मंत्री शिक्षा के क्षेत्र में अपनी ही पीठ थपथापते हैं कि शिक्षा के क्षेत्र में स्कूलों में जो भी स्कूल भवन बने है इन सब भवनों की मुरम्मत की जा रही है, लेकिन जमीनी स्तर पर हकीकत में कुछ और ही देखने को मिल रहा है।उन्होंने बताया कि ग्राउंड फ्लोर स्कूल भवन का निर्माण लगभग तीस साल पहले हुआ है और दूसरी मंजिल का निर्माण लगभग 26 वर्ष पहले हुआ है आज लगभग 30 साल बीत्त चुके हैं परन्तु आजतक कोई भी रिपेयर का काम नहीं हुआ है। इसे सरकार पर बैठे काबिना मंत्री और स्कूल में बैठे अधिकारियों की नाकामी बोले या लापरवाही कहें।

ब्लॉक कांग्रेस सचिव एवं पूर्व एस. एम. सी.प्रधान रमेश चंद ठाकुर ने कहा की इस स्कुल भवन के जो दोनों लेंटर है उनसे हर वक्त बच्चों के सामने रेत,बजरी और सीमेंट के टुकड़े गिरते रहते हैं जो अक्सर देखें जा सकते हैं। वहीं रात को स्कूल चौकीदार को भी खतरा है उन्होंने कहा सारे स्लैब का पानी सभी कमरों में टपकता है जिसकी बजह से कार्यालय में स्कूल का रिकॉर्ड और सामान के खराब होने का खतरा बना है
रमेश चन्द ने कहा है कि अगर इस स्कूल भवन के स्लैब से सीमेंट के टुकड़े गिरने से अगर किसी भी बच्चे और स्कूल स्टॉफ को जरा सी भी हानि होती है तो सरकार और शिक्षा विभाग के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि जो वर्तमान में स्कूल एस. एम.सी.प्रधान है वह जल शक्ति विभाग में अर्ध सरकारी नौकरी कर रहा है और उसको न तो स्कूल की चिंता है और न ही स्कूल में पढ़ रहे बच्चों की।उन्हें केवल स्कूल में चैक पर हस्ताक्षर करने के लिए ही बुलाया जाता है उन्हें समय रहते अपने पद से त्याग पत्र दे देना चाहिए। अगर समय रहते त्याग पत्र नहीं दिया तो इसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!