कम्प्यूटर शिक्षकों के लिए कोई स्थाई नीति नही बना पाई सरकार 

 

22 वर्षो तक अपनी सेवाएं देने के उपरांत मानदेय में मात्र एक हजार रुपये की हुई बढ़ोतरी 

कुनिहार  (ब्यूरो)

प्रदेश सरकार द्वारा कम्प्युटर शिक्षकों के लिए बजट के दोरान  कोई स्थाई निति न बनाकर केवल एक हजार रूपये मानदेय में बढोतरी की गई है। जिसको लेकर जिला सोलन कम्प्युटर शिक्षक संघ ने अपनी नाराजगी जाहिर की है । अध्यक्ष जिला सोलन कम्प्युटर शिक्षक संघ पूनम शर्मा, उपाध्यक्ष दिनेश, वशिष्ठ वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेश पटियाल, प्रेस सचिव वीरन्द्र शर्मा, अध्यक्ष कम्प्युटर शिक्षक संघ अर्की ब्लाक मुकेश शर्मा, उपाध्यक्ष संतोष शर्मा, सचिव सुरेन्द्र, कोषाध्यक्ष नीलम, मीना ठाकुर, सुधीर शर्मा, पदम ठाकुर, भूपेंद्र ठाकुर, संगीता ठाकुर आदि ने कहा कि सरकार के बजट से  कम्प्युटर शिक्षकों को काफी उम्मीदे थी   लेकिन  22 वर्षों तक विद्यालयों में अपनी सेवाये देने के उपरान्त हमारे लिए सरकार अभी तक कोई स्थाई पालिसी नही बना पाई । इतने वर्षों पश्चात अपनी सेवाये देने के उपरान्त मात्र एक हजार रुपयों की बढोतरी की गई । जबकि हम सरकार से कई बार अपने लिए स्थाई निति बनाए जाने का आग्रह करते रहे।  अपनी नाराजगी जाहिर करते हुवे कहा कि प्रदेश सरकार ने हर वर्ग के लिए कोई न कोई पालिसी बनाई हुई है । प्रदेश के अलग अलग विद्यालयों में अपनी सेवाये दे रहे।  अधिकतर कम्प्युटर शिक्षक वर्तमान में सेवानिवृति की कगार पर पंहुच चुके हैं । वर्तमान में प्रदेश में लगभग 3200 के करीब कम्प्युटर शिक्षक तेनात है, वन्ही जिला सोलन में लगभग 80  के करीब कम्प्युटर  शिक्षक हैं । उन्होंने ने कहा कि यदि समय रहते प्रदेश सरकार ने कम्प्युटर शिक्षकों के लिए कोई हितकारी निर्णय नही लिया तो आने वाले समय में सरकार के खिलाफ मोर्चा खोंले जाने से भी गुरेज नही किया जाएगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!