लाहौल स्पीति

बेहद शर्मिले माने जाने वाले स्नो लेपर्ड लाहौल-स्पीति के मयाड़ में दूसरी बार कैमरे में हुए कैद

 

स्वतंत्र हिमाचल

(लाहौल-स्पीति)तन्जिन वंगज्ञाल

घाटी में नया साल में फिर दूसरी बार मादा स्नो लेपड के साथ दो बच्चे कैमरे में कैद हो गए हैं! मानो ऐसा प्रतीत होता है कि शुष्क मरूस्थल लाहौल-स्पीति में इनके प्रजाति में बढ़ोतरी हो रहा है! इससे पहले भी 11 जनवरी को ही मयाड़ घाटी में ही एक स्नो लेपड कैमरे में कैद हुआ था!


दोनों बार मायड़ में स्नो लेपड को वन विभाग के वरिष्ठ वन रक्षक शिव कुमार, लोनिवि के अमीर जस्पा और गुरू राणा ने बुधवार को दूसरी बार फिर से मयाड़ में ही मादा स्नो लेपड के साथ उसके दो बच्चे को अपने कैमरों में कैद किया है!
बता दें कि स्नो लेपर्ड्स बिग कैट परिवार के चार बड़े सदस्यों में गिन जाते हैं जो ऊंचे हिमालय में मिलते हैं। बेहद नर्म फरों की वजह से इनका अवैध शिकार होता रहा है जिसकी वजह से इनकी वजूद पर खत्म सा हो गया। ऐसे में उनकी मौजूदगी के पहले सबूत बेहद अहम माने जा रहे हैं।

वरिष्ठ वन रक्षक शिव कुमार और उनके सहयोगी शोधार्थी पिछले कई सालों से नई, नई प्रजाति के वन्य जीव जन्तु के साथ पशु पक्षियों पर लगातार शौध कर रहे हैं! इनमें वन रक्षक शिव कुमार और अमीर जस्पा को वाइल्ड लाइफ की ओर सम्मानित भी किया जा चुका है!
वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि लाहौल में शिकार न होने से वन्य जीव जंतु भी बैखौफ निचले क्षेत्रों की ओर घूमते देखे जा रहे हैं! लाहौल वनमंडलाधिकारी दिनेश शर्मा ने लोगों से अपील की है कि वन्यजीवों से छेड़छाड़ न करे। उन्होंने बताया कि वन विभाग की टीम लगातार जगह जगह पैटरोलिंग भी कर रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!