मुख्यमंत्री द्वारा पेश किए बजट को धर्मपुर भाजपा ने सराहा, कांग्रेस ने नकारा

स्वतंत्र हिमाचल

(धर्मपुर )डी आर कटवाल

शुक्रवार को विधानसभा में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा वर्ष 2022- 23 के लिए बजट प्रस्तुत किया धर्मपुर में जहां एक और भाजपा ने बजट को सराहा वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस ने बजट को झूठ का मायाजाल बताया। बजट को लेकर लोगों ने अलग-अलग बयानबाजी की है

नानक चंद भारद्वाज जिला मंडी कांग्रेस महासचिव

कांग्रेस जिला महासचिव नानक चंद भारद्वाज ने मुख्यमंत्री द्वारा पेश किए बजट को चुनावी जुमला बताया कहा कि इस बजट में मजदूरों के हितों को दरकिनार किया गया है वहीं पर आउटसोर्स पर लगे कर्मचारियों के लिए कोई ठोस नीति बनाने का जिक्र नहीं हुआ जिस कारण है कर्मचारी अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं।

डॉ जयकुमार आजाद हिमाचल प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता

वहीं दूसरी तरफ हिमाचल प्रदेश कांग्रेस पार्टी के राज्य प्रवक्ता डॉ जय कुमार आजाद ने जयराम सरकार के बजट को मात्र झूठी घोषणा का पिटारा करार दिया उन्होंने इस बजट को लोन के जाल में फंसाने वाला बजट कहा जिससे प्रदेश की सरकार भारी भरकम कर्ज के बोझ तले दबेगी।

डॉक्टर अभिषेक शर्मा अध्यक्ष विश्व ब्राह्मण महापरिषद इकाई हिमाचल प्रदेश

विश्व ब्राह्मण महापरिषद हिमाचल इकाई के अध्यक्ष डॉ अभिषेक ने मुख्यमंत्री द्वारा पेश किए बजट को सराहा है उन्होंने कहा कि बजट विकासोन्मुखी है इसमें पंचायत प्रतिनिधियों तथा अन्य का मानदेय बढ़ाया गया है वहीं पर शिक्षा के क्षेत्र में बजट में काफी प्रावधान है शास्त्री तथा भाषा अध्यापकों को टीजीटी का पदनाम दिया है।

 

रजत ठाकुर हिमाचल प्रदेश भाजपा मीडिया सह प्रभारी

प्रदेश भाजपा मीडिया सह प्रभारी रजत ठाकुर ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा पेश किए बजट की सराहना करते हुए बजट को संतुलित बताया है जिसमें हर वर्ग का ध्यान रखा गया है उन्होंने इस बजट को विकासोन्मुखी बताया है।

राकेश कुमार अध्यक्ष पंचायत समिति धर्मपुर

धर्मपुर पंचायत समिति के अध्यक्ष राकेश कुमार ने मुख्यमंत्री द्वारा पेश किए बजट को सराहा है और कहा कि यह बस सभी वर्गों के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया है।

अजीत सिंह सकलानी अध्यक्ष भारतीय किसान संघ युवा बिंग हिमाचल प्रदेश

वहीं दूसरी तरफ भारतीय किसान संघ हिमाचल प्रदेश युवा प्रांत प्रमुख अजीत सिंह सकलानी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बजट में प्रदेश में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने, और किसानों, फल उत्पादकों व पुष्प उत्पादकों को अपने उत्पाद आसानी से ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए मंडियों की बात की गई है जो बहुत राहत प्रदान करने वाली है

 

कृषि क्षेत्र के लिए 583 करोड और बागवानी के लिए ₹543 का प्रावधान किया गया है तो वहीं प्रदेश में दो बड़ी अनाज मंडियों और एक बड़ी पुष्प मंडी खोलने की घोषणा की है साथ में ही प्रदेश के 100 गांवों में प्राकृतिक खेती को विकसित करने और प्रदेश की 10 मंडियों में प्राकृतिक उत्पादों को बेचने की व्यवस्था प्रदान की है। यह सभी प्रावधान किसानों फल उत्पादकों व पुष्प उत्पादकों को उन्नति की राह पर ले जाएंगे और उनकी आय में भी बृद्धि होगी । भारतीय किसान संघ इसका स्वागत करता है और प्रदेश सरकार का धन्यवाद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!