कुल्लू

बंजार में सब्जी मंडी के मार्केट यार्ड के निर्माण का रास्ता साफ : शौरी

9 बीघा वन भूमि की नर्सरी को कृषि विभाग को हस्तांतरण को मिली मंजूरी

(सैंज)प्रेम सागर चौधरी

विधानसभा में विधायक सुरेन्द्र शौरी के सवाल के जबाब में कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर ने जानकारी देते हुए बताया कि बंजार में सब्जी मंडी के मार्किट यार्ड बनाने के लिए 30 .9 2020 को डिजाइनिंग व प्लानिंग हेतु परामर्शदाता को नियुक्त किया है और कार्य प्रगति पर है और सभी औपचारिकताये पूरी होने के बाद ही सब्जी मंडी का निर्माण किया जाएगा। गौरतलब है कि बंजार में दमोठी स्थित सब्जी मंडी की नवनिर्माण का मामला एक दशक से भी ज्यादा समय से सुर्खियों में रहा है।

सब्जी मंडी में बेतरतीब अधोसरन्चना व अव्यवस्था के कारण क्षेत्रीय बागबानों व कृषकों को भारी परेशानियों व असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। बंजार में सब्जी मंडी को शुरुआत में एक निजी भवन 2001 के लगभग शुरू की थी और 2019 तक बहीं पर चलती रही। ततपश्चात अगस्त 2019 में सब्जी मंडी को निजी भवन से दमोठी में ही स्थित वन भूमि पर स्थानांतरित कर दिया गया था। गौरतलब है कि इस वन भूमि पर वन विभाग की नर्सरी मौजूद थी। जिसे पिछली साल विधायक सुरेन्द्र शौरी के प्रयास से भुमार गाँव के पास स्थानांतरित कर दिया गया था। परंतु वन भूमि, कृषि विभाग के नाम न हो पाने कारण इस सब्जी मंडी के मार्केट यार्ड व अन्य भवनों का निर्माण अभी तक नहीं हो पाया है। युवा विधायक बंजार सुरेन्द्र शौरी ने जानकारी साझा करते हुए कहा कि अब बंजार सब्जी मंडी के मार्केट यार्ड के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है व 26 फरबरी 2021 ही चयनित वन भूमि को सब्जी मंडी के निर्माण हेतु कृषि विभाग के नाम हस्तांतरित करने के लिए भारत सरकार, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, एकीकृत क्षेत्रीय कार्यालय, देहरादून द्वारा अंतिम स्वीकृति जारी कर दी गई है। इसी बर्ष बजट का प्रावधान होते ही सब्जी मंडी का निर्माण कार्य शुरु कर दिया जाएगा। साथ ही विधायक बंजार ने कहा कि दमोठी से वन नर्सरी को भूमार शिफ्ट करने के पश्चात सब्जी मंडी को अस्थाई तौर पर वन भूमि पर बैठाया गया था और तुरंत ही वन भूमि का ऍफ़ सी ए केस बनाकर फरवरी 2019 में वन भूमि के कृषि विभाग को हस्तांतरण के लिए देहरादून भेजा गया था। लगातार पत्राचार व सरकार के अथक प्रयासों से आज वन भूमि, कृषि विभाग के नाम हस्तांतरित हो गई है, और जल्द ही निर्माण कार्य की बची औपचारिकता पूरी की जाकर मार्केट यार्ड तैयार होगा। लंबित पड़े विकास कार्यों के लिए किये प्रयासों को सिरे चढ़ते हुए देखना एक बेहद सुखद एहसास है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!