बिना कृष्ण के न तो सृष्टि का अस्तित्व न ही पालन: आचार्य पीतांबर

  • बद्दी में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का श्रद्धालुओं ने किया रसपान
    बद्दी (राकेश ठाकुर)
    औद्योगिक क्षेत्र बद्दी में श्रीमद्भावगत कथा व विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। कुम्हारहट्टी के विख्यात कथावाचक आचार्य पीतांबर दत्त ने उपस्थित भक्तजनों को श्रीमद् भागवत कथा का रसपान करवाते हुए कहा कि बिना कृण के न तो सृष्टि का अस्तित्व है और नही पालन। उन्होंने बताया कि जहां पर भी श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया जाता है वह क्षेत्र पापों व दोषों से मुक्त हो जाता है। आचार्य पीतांबर दत्त ने कहा कि इंसान 84 लाख जूनें भोगता है और इस 84 के गेढ़ से मुक्ति भगवान कृष्ण की भक्ति और श्रीम्द भागवत कथा के रसपान से मिलती है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार इंसान हवा पानी के जिंदा नहीं रह सकता, उसकी प्रकार बिना कृष्ण के सृष्टि का अस्तित्व नहीं है और वही हैं जो सृष्टि के पालनहार हैं।

उन्होंने श्रद्धालुओं से पश्चिमी सभ्यता से दूर रहने और भगवान के प्रति आस्था और श्रद्धा रखने का आहवान किया। युवाओं को नशे से दूर रहने का आहवान करते हुए आचार्य पीतांबर दत्त ने कहा कि नशा मानव जीवन, बुद्धि और शरीर का नाश करता है। उन्होंने श्रीमद् भागवत कथा के आयोजक दीदार सिंह दारा का भी आभार जताते हुए कहा कि कथा का आयोजन कर उन्होंने श्रद्धालुओं को निहाल किया है जो पुण्य का काम है। इस मौके पर पार्षद सुरजीत चौधरी, पार्षद जस्सी चौधरी, मीनू मुकेश, विश्वास, हरगुण सिंह, गुरप्रीत, बाल किशन, गुरपाल, रामपाल, मोहन चौधरी, तरसेम चौधरी, कमलजीत कौर, कांता देवी, रजनी देवी, परमजीत कौर, मीना देवी समेत भारी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे। श्रीमद् भावगत कथा के समापन अवसर पर हवन यज्ञ के उपरांत विशाल भंडारे का आयोजन किया गया, जिसमें भारी संख्या में श्रद्धालुाओं ने प्रसाद ग्रहण किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!