किसान सभा खंड इकाई निरमंड ने केंद्र सरकार द्वारा किसान विरोधी कृषि कानूनों का किया दहन

 

 

स्वतंत्र हिमाचल
(आनी) विनय गोस्वामी

 

अखिल भारतीय किसान सभा व संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर शनिवार क़ो किसान सभा खंड इकाई निरमण्ड द्वारा निरमण्ड के अलग अलग गांव में केंद्र सरकार द्वारा लाये गए तीन किसान विरोधी कृषि कानूनों का दहन किया गया।

हिमाचल किसान सभा जिला महासचिव देवकी नंद, किसान सभा निरमण्ड इकाई के सचिव जगदीश ने कहा कि यह शर्मनाक है कि केंद्र सरकार किसानों के प्रति उदासीन रवैया अपनाए हुए है,उन्होंने कहा कि जब तक केंद्र सरकार किसानों की बात मान नहीं लेती आन्दोलन जारी रहेगा।

साथ ही उन्होंने कहा कि एक तरफ कोरोना कोरोना महामारी से किसानों को नुकसान हुआ है वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार द्वारा लाये गए तीन कृषि कानूनों से किसानों को नुकसान हुआ है जबकि ऐसे विकट दौर में तो सरकार को किसानों की मदद करनी चाहिए थी परंतु सरकार के इस रवैये से लगता है कि यह सरकार किसानों के प्रति कितनी संवेदनशील है।

शनिवार क़ो हुए इस प्रदर्शन में निरमण्ड के अलग-अलग गांव में लोगों ने काले कृषि कानूनों को जलाकर संघर्ष को जिंदा रहने की गवाही दी।

उन्होंने कहा कि यह तीनों कानून पिछले साल 5 जून को केंद्र सरकार लेकर आई थी जिनको किसानों ने स्वीकार नहीं किया है और इन कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर किसान दिल्ली मे धरने पर बैठे हुए हैं।

यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक केंद्र सरकार इन तीनों कानूनों को निरस्त ना कर दे।

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ इस प्रदर्शन में दुर्गानंद, सन्नी, परस राम,राहुल,दीप चंद,बलवीर सिंह, धनी राम,रकम राम,उषा देवी,मीनाक्षी,फुला देवी,कश्मीरी लाल,कलु देवी नीरत सिंह इत्यादि ने अपनी भागीदारी सुनिश्चत क़ी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!