अटल बिहारी वाजपेई राजकीय महाविद्यालय बंगाणा में एक दिवसीय कार्यक्रम आयोजित


( बंगाणा )राकेश राणा

जिला ऊना उपमंडल बंगाणा क्षेत्र में राजनीति विज्ञान विभाग के सौजन्य से अटल बिहारी वाजपेई राजकीय महाविद्यालय बंगाणा में राजनीति विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफ़ेसर सिकंदर नेगी के अध्यक्षता में  अंतरराष्ट्रीय राजनीति एवं संबंधों पर आधारित समसामयिकी विषय पर विशेष सेमिनार का आयोजन किया गया।

सेमिनार का विषय अंतरराष्ट्रीय साइबर सिक्योरिटी ,भारत- रूस संबंध, कोरॉना काल में विश्व स्वास्थ्य संगठन की भूमिका, वर्तमान संदर्भ में पंचशील की प्रासंगिकता। सबसे पहले फर्स्ट ईयर का छात्र सौरव कुमार ने साइबर सिक्योरिटी पर अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि कोरोना काल में साइबर अपराध बढ़ गया है। साइबर सिक्योरिटी से अभिप्राय एक तरह की इंटरनेट सिक्योरिटी से है,

जो आपको मैलवेयर, ब्लैक हैट हैकर्स या किसी अन्य तरह के साइबर हमलों से बचाती है। अगर आप इंटरनेट का उपयोग बैंकिंग से जुड़ी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए करते हैं, तो आपको अपने डिवाइस में साइबर सिक्योरिटी को ध्यान में रखते हुए एंटीवायरस को जरूर इंस्टॉल करना चाहिए। समय-समय पर अपने बैंक के पासवर्ड समय-समय पर चेंज करते रहे और अनजान जगहों के वाईफाई को बिल्कुल भी अपने फोन से कनेक्ट ना करें।

अपने पासवर्ड को किसी भी अनजान व्यक्ति के साथ शेयर ना करें। अनजान कॉल को अटेंड ना करें। इसके बाद फर्स्ट ईयर के छात्र रितेश पटियाला भारत रूस संबंध पर अपने प्रकाश डालते हुए कहा कि भारत की आजादी के बाद से ही भारत और रूस के सम्बन्ध बहुत अच्छे रहे हैं। शीत युद्ध के समय भारत और सोवियत संघ में मजबूत रणनीतिक, सैनिक, आर्थिक, एवं राजनयिक सम्बन्ध रहे हैं। सोवियत संघ के विघटन के बाद भी दोनों के सम्बन्ध पूर्ववत बने रहे।भारत-रूस रणनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!