आनीकुल्लू

शिमला-कुल्लू में भाजपा चित, दोनों जिला परिषदों पर कांग्रेस ने जमाया कब्जा

दोनों जिला परिषदों पर कांग्रेस ने जमाया कब्जा, भगवा दल की रणनीति नहीं आई काम
चंद्र प्रभा के हाथ शिमला जिला परिषद की कमान

स्वतंत्र हिमाचल ( कुल्लू)सुरेश भारद्वाज

शिमला जिला परिषद् पर काग्रेंस का परचम लहराया है। अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पर काग्रेंस समर्थित उम्मीदवारों ने कब्जा जमाया है।  रामपुर उपमंडल की त्याबल (ज्यूरी) वार्ड की जिला परिषद सदस्य चंद्र प्रभा नेगी को अध्यक्ष और रोहडू के अढाल वार्ड से जिला परिषद सदस्य सुरेंद्र रेटका को उपाध्यक्ष पद के लिए निर्वाचित किया गया है।


शिमला के बचत भवन में आयोजित बैठक के दौरान अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव किया गया, जिसमें  जिला परिषद अध्यक्ष पद के लिए चंद्र प्रभा नेगी को 24 में से 15 वोट पड़े, जबकि उपाध्यक्ष सुरेंद्र रेटका को 24 में से 17 वोट पड़े। भाजपा समर्थित भारती जनारथा को अध्यक्ष पद के लिए नौ वोट पड़े, जबकि उपाध्यक्ष पद के मदन लाल वर्मा सात वोट से संतोष करना पड़ा। चुनाव प्रकिया के दौरान बजत भवन में पुख्ता सुरक्षा के इतंजाम किए गए थे।  चुनाव के दौरान किसी को भी भीतर जाने नहीं दिया जा रहा था। चुनाव प्रक्रिया करीब तीन घंटे तक चली। इस दौरान सभी भी निगाहें जिला परिषद अध्यक्ष व उपाध्यक्ष कौन बनेगा इस पर टीकी रहीं।

जैसे ही चुनाव का परिणाम सामने आए तो बचत भवन बाहर क ांग्रेस कार्यकताओं ने खूब नारे लगाए।
इस दौरान प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिहं राठौर सहित विधायक विक्रमादित्या सिहं  मौजूद रहे। बता दें कि  जिला परिषद सदस्य पर काग्रेंस समर्थित 13 उम्मीदवार जीत कर आए थे। भाजपा के सात, तीन माकपा समर्थित और एक सदस्य निर्दलीय जीत कर सामने आया था।  जीत हासिल करने के बाद कांग्रेस के जिला परिषद अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष ने जीत का श्रेय कांग्रेस को दिया है। साथ ही दोनों ने ही अपनी प्राथमिकताएं विकास को बताई। शिमला के विकास को साथ मिलकर आगे बढ़ाया जाएगा।
आनी के पंकज परमार जिला परिषद कुल्लू के सरदार

जिला कुल्लू परिषद में अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद के चुनावों में कांग्रेस ने आखिरकार बाजी मार ली है। जिला परिषद अध्यक्ष पद पर आनी के पंकज परमार काबिज हुए हैं, तो वहीं उपाध्यक्ष पद पर मनाली विधानसभा क्षेत्र से संबध रखने वाले वीर सिंह ठाकुर ने जीत हासिल की है। गुरुवार को दोपहर बाद चुनाव करवाए गए, जिसमें पंकज परमार को कुल आठ मत पड़े, वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए वीर सिंह को नौ मत मिले। हालांकि भाजपा की ओर से भी अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किए गए थे, लेकिन बहुमत न होने के चलते भाजपा को हार का सामना करना पड़ा।

पंकज परमार पूर्व में भाजपा के युवा मोर्चा में भी पदाधिकारी रह चुके हैं और टिकट न मिलने पर उन्होंने भाजपा से नाराज होकर आजाद प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा था। अध्यक्ष पद देकर कांग्रेस ने पंकज परमार को अपनी ओर कर लिया है। उपाध्यक्ष पद के लिए वीर सिंह ठाकुर ने राज परिवार की पुत्र वधू विभा सिंह को मात दी है। वीर सिंह ठाकुर नसोगी वार्ड से कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी के रूप में जीत कर आए हैं।  डीसी कुल्लू डा. ऋचा वर्मा ने अध्यक्ष व उपाध्यक्ष को पद व गोपनीयता की शपथ भी दिला दी है।


नेताओं की हठधर्मिता से भाजपा ने गंवाई सरदारी
भुंतर— आम कार्यकर्ताओं के दम पर सत्ता में आने का दावा करने वाली भाजपा कुल्लू में कुछ नेताओं की हठधर्मिता के आगे नतमस्तक हो गई है। महज दस दिन में दूसरी बार कुल्लू भाजपा में नेताओं की अपनी डफली, अपन राग की पॉलिसी का नजारा साफ  देखने को मिला है।

नेताओं की हठधर्मिता के चलते जिला परिषद के अध्यक्ष-उपाध्यक्ष जैसे अहम पद गंवाने पड़े हैं। दूसरी ओर कांग्रेस की टीम ने एकजुटता का संदेश देने के साथ विरोधी खेमे में सेंध लगाने के हुनर के दम पर जिला परिषद में भाजपा को पटखनी दी है। गुटबाजी के कारण प्रदेश भर में चर्चा के केंद्र में चल रहे कुल्लू भाजपा में अभी भी सब सही नहीं है, इसका पहला उदाहरण पिछले सप्ताह ही पंचायत समिति कुल्लू के चुनावों के दौरान दिखा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!