जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर का एक दिवसीय जोगिंदरनगर दौरा पूरी तरह चुनावी : कुशाल भारद्वाज

स्वतंत्र हिमाचल
(जोगिंदरनगर) अंकित कुमार

जिला परिषद सदस्य कुशाल भारद्वाज ने जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के एक दिवसीय जोगिन्दरनगर दौरे को पूरी तरह से चुनावी दौरा बताते हुए इसे जनता की भावनाओं से खिलवाड़ बताया है। उन्होंने कहा कि जनता को कोरोना के खतरे के बीच खुला निमंत्रण देना कि अपनी बिजली, पानी और सड़क संबंधी समस्या का समाधान करवाने के लिए मंत्री से मिलने जरूर आयें, यह सरेआम जनता के विश्वास के साथ धोखा है। वरना एक दिन में 30 से ज्यादा स्थानों पर जनता की समस्याएँ कैसे सुनी जा सकती हैं?

कुशाल भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश में सरकार बनें 4 साल हो गए हैं, लेकिन जनता की समस्याएँ सुनने तब तो कभी नहीं आये। लेकिन हमारे सम्माननीय सांसद रामस्वरूप शर्मा की संदिग्ध हालत में हुई मृत्यु के बाद अब जब उपचुनाव की नौबत आई तो मंत्री जी कोरोना के संक्रमण के बीच जोगिंदर नगर में 30 से भी ज्यादा स्थानों में जनसमस्याएँ सुनने के नाम पर भीड़ जुटाने का काम कर गए। इस दौरान मीडिया वालों को भी भीड़ के फोटो खींचने से रोका गया।

कुशाल भारद्वाज ने कहा कि हकीकत यह है कि कई जगह लोग अपनी समस्याएँ मंत्री के सामने रखना चाहते थे। कई गरीब लोग जिनमें महिलाएं, युवक-युवतियाँ व बुजुर्ग भी थे, मंत्री से अपनी बात कहने आए थे। लेकिन एक मांग पत्र पकड़ने और उसे आगे पकड़वाने के अलावा किसी की समस्या को सुना ही नहीं गया। चुनावी लारे लप्पे देते हुए मंत्री जी यही कहते रहे कि मुझे जोगिंदर नगर से लगाव है और मैंने यहाँ पर यह किया है वह किया है। अपनी समस्याएँ लेकर एक जगह यदि 50-60 लोग 7 घंटे से इंतजार में खड़े हैं तो 5 मिनट में कौन सी समस्या सुनी जा सकती है। यदि जनता को सच्चाई बताई होती कि लोकसभा उपचुनावों में जनता का मूड भांपने के लिए जोगिंदर नगर आ रहे हैं तथा अपने खास कार्यकर्ताओं से ही बात करेंगे तो शायद सैंकड़ों लोगों को कड़कती धूप में कई घंटे फालतू में इंतजार न करना पड़ता।

कोरोना कर्फ़्यू के बीच मंत्री का तूफानी दौरा समस्याओं के हल के लिए नहीं बल्कि लोकसभा उपचुनावों में अपनी जमीन तलाशने के लिए था। लोगों को अपने बच्चों की शादी में बैंड-बाजा और डीजे चलाने की पाबंदी थी लेकिन मंत्री का स्वागत बैंड बाजे से हो रहा था। ऐसे समय में जब जोगिंदरनगर में पिछले कुछ समय में कोरोना और अन्य कारणों से हुई अत्यधिक मौतों के कारण अधिकांश गांवों में मातम छाया हुआ है, तो मंत्री जी बैंड बाजों की धुन में सवार हो कर जोगिंदरनगर में ऐसे प्रवेश करते हैं जैसे किसी खुशी के उत्सव में शामिल होने के लिए आए हों। उनकी अपनी रिश्तेदारी की पंचायत में पिछले डेढ़ महीने में कोई 15 लोगों की मृत्यु हुई है जिनमें कोरोना से भी 6 मौतें हुई हैं, लेकिन उनमें से एक भी घर में जा कर संवेदना जताने का भी समय उनके पास नहीं था। फिर यह बोलना कि यह मेरे कुड़मों की पंचायत है और मुझे इससे लगाव है, चुनावी पैंतरे के अलावा कुछ नहीं है।

कुशाल भारद्वाज ने कहा कि उन्होंने भी जिला परिषद सदस्य के नाते अपने वार्ड की भराड़ू, बिहूं, नौहली, कस, चल्हारग, बल्ह, चुक्कू, कुफ़री, भडवाहण, बडीधार व बह पंचायतों की मांगों संबंधी ज्ञापन मंत्री को सौंपा। क्योंकि वे जल शक्ति मंत्री हैं तो सिर्फ पेयजल संबंधी मांगें ही उनके समक्ष रखीं, जबकि बिजली व सड़क संबंधी मांगों को संबन्धित मंत्रालयों को भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि वे इन मांगों पर मंत्री जी से थोड़ी वार्ता करना चाहते थे, लेकिन मंत्री जी के पास सुनने का समय ही नहीं था। भराड़ू में आ कर लोगों के बीच यही कहा कि ये तो मेरे कुड़मों का इलाका है और यहाँ से मेरा बड़ा लगाव है। लेकिन हकीकत यह है कि कुड़मों के घर के बगल में भौरा, खपरोटू, मकोड़ा, बागडू, रोपी, पेटू, नागदयाड़ा, कोठी, कस बेढलू, गांवों में पेयजल की भारी कमी है। भराडू बाजार के साथ ही जो भराड़ू व अलगावाड़ी गाँव हैं वहाँ पर भी पेय जल समस्या है तथा पेयजल भंडारण का टैंक तक नहीं है। कुछ स्थानीय लोग जब अपनी पेय जल संबंधी समस्या मंत्री जी को बताने लगे तो उनको जवाब मिला कि यहाँ आस पास एक शानदार रेस्ट हाउस का निर्माण किया जाएगा। वहाँ उपस्थित महिलाओं व कुछ युवतियों ने कहा भी कि रेस्ट हाउस से हम ने क्या करना, हमें तो पानी चाहिए। भराडू में जो उठाऊ सिंचाई परियोजना है, उसकी मोटर पिछले कई सालों से खराब है। इसके अलावा जोगिंदर नगर व पधर मण्डल के गांवों में पीने के पानी का गंभीर संकट है।
उन्होंने कहा कि आने वाले समय में वे इन मुद्दों पर जनता की व्यापक एकता बनाते हुए संघर्ष करेंगे तथा जरूरत पड़ी तो उग्र आंदोलन भी छेड़ेंगे। उन्होंने जोगिंदरनगर एवं चौंतड़ा मण्डल को मंडी से निकाल कर धर्मपुर वृत और हमीरपुर मुख्य अभियंता के अधीन करने की भी कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा धर्मपुर सर्कल को जस्टिफाई करने के लिए ही जोगिंदर नगर मण्डल को मंडी से निकाल कर हमीरपुर के अधीन किया गया है जो कि जोगिंदर नगर की जनता से सरेआम भेदभाव है। उन्होंने मांग की कि इस मण्डल को हमीरपुर मुख्य अभियंता कार्यालय के अधीन करने का फैसला निरस्त किया जाये तथा इस वापस मंडी कार्यालय से जोड़ा जाये।

कुशाल भारद्वाज ने इस अवसर पर जिला परिषद सदस्य की हैसियत से जलशक्ति मंत्री को पेयजल समस्या संबंधी ज्ञापन भी सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि भराड़ू जिला परिषद वार्ड की अधिकांश पंचायतों में लंबे समय से पीने के पानी की किल्लत रही है तथा अनेक गांवों में यह समस्या अब भी बरकरार है। उन्होंने पेयजल समस्या के समाधान हेतु कुछ ठोस मांगें व सुझाव भी जलशक्ति मंत्री के समक्ष रखे। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इन सुझावों पर शीघ्र अमल होगा ताकि इस इलाके की पेयजल समस्या से जनता को निजात मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!