पाकिस्तान और चीन से लड़ने वाला योद्धा अब कोरोना से हारा जंग

सेवानिवृत्त कैप्टन फेहु राम का 85 वर्ष की आयु में निधन

भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन युद्ध में लिया था भाग

स्वंतंत्र हिमाचल (नेरचौक) अमन शर्मा

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला में कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। जिस वजह से कई परिवार उजाड़ गए हैं। कहीं तो बच्चों के सिर से माँ बाप का साया उठ गया तो कहीं बुज़ुर्गों ने असमय अपने बच्चों को अपने सामने खो दिया और कहीं पर परिवारों से बुज़ुर्गों का साथ छूट गया।
       इस आपदा में बच्चों से ले कर बुजुर्गों तक कोई अछूता नही रहा। ताज़ा मामले में मंडी जिला के बल्ह उपमंडल के दरव्यास गांव के रहने वाले 85 वर्षीय सेवानिवृत्त कैप्टन फेहु राम कोरोना संक्रमित होने के बाद डेडिकेटेड कोविड अस्पताल नेरचौक में उपचार करवा रहे थे। जहां इलाज के दौरान वो अपनी जान गवां बैठे हैं। मृतक 19 मई को कोविड-19 के रेपिड एंटिजन टेस्ट में कोरोना संक्रमित पाए गए थे और तबीयत बिगड़ने पर उन्हें 23 मई को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल नेरचौक शिफ्ट किया गया। जहां पर उनका उपचार चल रहा था।


      सेवानिवृत्त कैप्टन फेहु राम का जन्म 26 नवंबर 1935 को बल्ह के दरव्यास गांव में हुआ था। उन्होंने अपने सेवाकाल के समय में बहुत सी उपलब्धियां हासिल की थी। मृतक ने भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन युद्ध मे भी भाग लिया था। कैप्टन फेहु राम 1979 मे सूबेदार मेजर और 1989 में कैप्टन बने थे। इसके अलावा वे 1990 में भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हुए थे। कैप्टन फेहु राम की मौत पर मंडी जिला सहित हिमाचल प्रदेश में शोक की लहर दौड़ गई है।

      जानकारी देते हुए दरव्यास पंचायत प्रधान नेहा देवी ने बताया कि कैप्टन फेहु राम बहुत ही दानी सज्जन थे। उन्होंने हाल मे ही स्कूल के लिए जमीन दान की थी। वो हमेशा जरूरतमंद लोगों की सहायता में खड़े रहते थे। जब भी गांव में भी उनकी कोई ज़रूरत होती तो वे हमेशा खड़े रहते थे। बगत अच्छे व सरल स्वभाव के व्यक्ति थे। उनकी मृत्यु की खबर के बाद पूरी पंचायत बहुत दुखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!