कोरोना के बढ़ते मामलों को गंभीरता से लें सरकार , बनाएं रणनीति: बाली


(कांगडा)मनोज कुमार

प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों पर चिंता जताते हुए पूर्व मंत्री जीएस बाली ने सरकार को घेरा। जीएस बाली ने कहा कि यह महामारी पूरी दुनिया मे पहली बार आई है और इसके लिए हमे जानकारों या स्वास्थ्य विशेषज्ञों से सलाह लेनी चाहिए।सरकार बताए कि इस संकट के दौर में कोरोना संक्रमित मरीजों को किस तरह का इलाज मिल रहा है।

बाली ने कहा कि सरकार ने बिना सोचे-समझे नाइट कफ्र्यू लगा दिया जिसका कोई औचित्य नहीं है। उन्होंने पूछा कि अगर प्रदेश में आने वाले दिनों में कोरोना के केस बढ़े तो इस पर सरकार की क्या तैयारी होगी। पूर्व मंत्री ने कहा कि आज लोग डरे हुए हैं कि कोरोना का मरीज किस हालात में रह रहा है। सरकार को इसको लेकर पारदर्शिता करनी चाहिए। जीएस बाली ने सरकार को आगाह करते हुए कहा कि लोगों को अस्पतालों में सुविधा नहीं मिल रही हैं जिसको लेकर सरकार को सुविधा प्रदान करनी चाहिए। जो कोरोना मरीज हैं उनके वार्ड में सीसीटीवी कैमरा लगाएं और उनकी डिस्प्ले उनके साथ आए परिजनों को दिखाई जाए ताकि परिजनों को भी पता चल जाए कि उनके मरीज का सही इलाज हो रहा है या नहीं।

वहीं, इमरजेंसी में भी अस्पताल प्रशासन को निगरानी रखनी चाहिए कि वहां आए सभी लोगों का इलाज हो रहा है या नहीं। आज जो स्थिति है वे चिंताजनक है और उसे नियंत्रण करना चाहिए। मामले की गंभीरता को सरकार को समझना चाहिए और इसे देखते हुए आगामी रणनीति बनानी चाहिए। सरकार थाली और ताली बजाके कोरोना भगाने की बात करती है जो गलत है।
उन्होंने कहा कि प्राइवेट वाल्वो तो चल रही है लेकिन सरकारी वाल्वो वर्कशॉपों में खड़ी हैं।उन्होंने कहा कि आज जब राष्ट्रीय आंकड़े हिमाचल की स्थिति दर्शा रहे हैं तो मुख्यमंत्री कहते हैं यह कांग्रेस का दुष्प्रचार  है ।
बाली ने कहा कि बिना सोचे समझे फैसले लिए जाते हैं सुबह से शाम नहीं होती फैसले बदल जाते हैं ।उन्होंने कहा कि सरकार युद्धस्तर पर लोगों को बचाने के उपायों पर ध्यान दे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!