शिमला

फ़टी पुरानी पानी की पाइपों से जुगाड़ के सहारे चला रही जल शक्ति विभाग जोगिंदर नगर मसौली पंचायत को देने वाली सिंचाई कुहल

मसौली पंचायत की जनता में व्यापक भारी आक्रोश,पंचायत प्रधान अंजना ने की विभाग से जल्द फ़टी पुरानी पाइपें बदलने की मांग

 

 

(जोगिंदर नगर) क्रांति सूद

 

जल शक्ति विभाग जोगिंदर नगर द्वारा क्षेत्र की जनता को पर्याप्त मात्रा में पीने व सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध करवाने के बड़े बड़े दावे नेरी कुहल में हवा हवाई होते नज़र आए। जहां विभाग द्वारा दशकों पहले डाली गई पानी की पाइपें पूरी तरह से गल-सड़ चूंकि हैं। इन गली सड़ी पाइपों को बदलने के बजाए विभाग द्वारा सीमेंट की बोरियों व पथरों के सहारे फ़टी पाइपों को ढक,जुगाड़ से काम चलाया जा रहा है।विभाग की इस प्रकार की कार्यप्रणाली जोगिंदर नगर के चलते सोमवार को मसौली पंचायत प्रधान अंजना शर्मा के नेतृत्व में पंचायत के आधा दर्जन गांव की जनता लोअर आरठी में एकत्रित हुई एवं यहां से नेरी कुहल से पंचायत के आधा दर्जन गांवों को दी जाने वाली सिंचाई कुहल की दुर्दशा पर जल शक्ति विभाग के प्रति अपना रोष व्यक्त किया। बताते चलें कि मसौली पंचायत के मसौल,छत्तर,बनाई हार,धरूँ,ढकरैरा व अवायर सहित आधा दर्जन गांव की जनता की हज़ारों एकड़ जमीन की सिंचाई इसी कुहल पर निर्भर करती है।

सिंचाई कुहल की हालत इतनी खस्ता है कि गांव के लोगों को पर्याप्त जल स्रोत होने के बावजूद भी जो पानी कुहल के माध्यम से दिया जा रहा है उसका एक चौथाई भाग ही उनके खेतों तक पहुंच रहा है। कूहल से किसानों के खेतों तक सिंचाई का पानी पहुंचाने वाली विभाग द्वारा डाली गई पानी की पाइपें इस प्रकार से गल व सड़ चुकी हैं की ये पाइपें छन्नी के रूप में तब्दील हो गई हैं। पंचायत की जनता का कहना है कि इससे पहले भी उनके द्वारा विभाग को इस समस्या बारे कई बार चेताया गया,परंतु विभाग ने इस और अपनी आंखें मूंद रखी हैं।जनता का आरोप है कि इस ओर विभाग द्वारा कोई भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। वहीं खेतों की सिंचाई के समय छत्तर व मसौली गांव के लोग पानी की कम मात्रा के चलते लड़ते झगड़ते रहते हैं। पंचायत के वरिष्ठ नागरिकों एवं मातृशक्ति का कहना है कि उन्हें सिंचाई के पानी के साथ साथ पीने के पानी के लिए भी रोजाना कई समस्याओं से दो चार होना पड़ता है।

जनता का कहना है कि जो पानी उन्हें पीने के लिए विभाग द्वारा दिया जा रहा है वह पानी इतना दूषित है कि पीने लायक नहीं।जिसके चलते गांव की महिलाओं को अपने घरों से दूर प्राकृतिक स्त्रोतों से पीने के लिए पानी लाना पड़ता है।आधा दर्जन गांव की जनता का कहना है कि उन्हें पर्याप्त मात्रा में सिंचाई का पानी न मिलने के चलते उनकी खेती में खासा नुकसान हो रहा है।जनता का आरोप है कि विभाग द्वारा मसौली पंचायत के अप्पर छत्तर में पानी के टैंक का निर्माण होने के बावजूद भी यहां की जनता को पीने की लिए पानी नहीं दिया जा रहा। जिसके पीछे विभाग पानी की पाइपें न होने की बात करता है।

वहीं अब किसानों की खेती के दिन भी नज़दीक आ रहे हैं। पंचायत प्रधान अंजना शर्मा ने विभाग से मांग की है कि इन सभी फ़टी गली सड़ी पानी की पाइपों को विभाग 15 दिन के भीतर बदले व छत्तर व एवं मसौली गांव की जनता को दो अलग-अलग पाइप डाल कर उनको खेतों की सिंचाई के लिए पानी पहुंचाए ताकि आने वाले समय में किसानों को उनकी खेती में किसी प्रकार का नुकसान न हो। उन्होंने कहा कि अगर विभाग उनके द्वारा तय समस्य पर इन फ़टी पाईपों को नहीं बदलता है तो मसौली पंचायत की जनता विभाग के प्रति आंदोलन करने को विवश हो जाएगी,जिसकी जिम्मेदारी जल शक्ति विभाग जोगिंदर नगर की होगी। इस अवसर पर कैप्टन चंदर सिंह, बनाई युवक मंडल के प्रधान दीपन ठाकुर,छागरी देवी,ज्ञान चन्द,इंदु देवी सहित मसौली पंचायत की सैंकड़ो महिलाएं,युवा व वरिष्ठ नागरिक विशेष रूप से उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!