कुल्लू

बंजार खण्ड की 4 पंचायतों के लिए सिंचाई योजनाएं स्वीकृत

(सैंज)प्रेम सागर चौधरी

हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना के तहत बंजार खण्ड की 4 पंचायतों के लिए 4 करोड़ रुपए की सिंचाई योजनाएं स्वीकृत
बंजार विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत लघु व सीमान्त किसानों को लाभान्वित करने के लिए सरकार द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। चिन्हित बागवानी उत्पादों तथा फसलों की उत्पादकता, गुणवत्ता एवं विपणन हेतू आधारभूत सरंचना को बढ़ावा देने हेतू लघु व सीमान्त किसानों व कृषि उद्यमियों के लिए करोड़ों रु0 का स्वीकृत बजट खर्च किया जाना है।

युवा विधायक बंजार सुरेन्द्र शौरी ने जानकारी देते हुए कहा कि विश्व बैंक द्वारा पोषित हिमाचल प्रदेश उद्यान विकास परियोजना के तहत विकास खण्ड बंजार में 23 बागवान समूह बनाए गए हैं, जिनमें से 11 बागवान समूह में जल उपभोक्ता संघ का गठन हो चुका है तथा 7 जल उपभोक्ता संघ पंजीकृत हुए हैं। इस परियोजना की कुल लागत 1134 करोड़ है जोकि बर्ष 2022 तक पूर्ण होनी प्रस्तावित है। इस परियोजना के अन्तर्गत बर्ष 2020-21 तक विकास खण्ड बंजार में विदेश से आयात किए गए सेब, नाशपती, अखरोट आदि के 25,274 पौधे बागवानों में उचित मूल्य पर वितरित किये जा चुके हैं।

इसी परियोजना के अन्तर्गत बने बागवान समूहों को सिंचाई जल उपलब्ध करवाने हेतू 4 बड़ी बहाब जल सिंचाई योजनाएँ क्रमश: धाउगी, चकुरठा, कनौन व चनौन पंचायतों के लिए स्वीकृत की गई हैं। जिनकी कुल लागत चार करोड़ रुपए से अधिक की है। जल्द ही इन बहाब जल सिंचाई योजनाओं का सबंधित पंचायतों में निर्माण कार्य शुरु कर दिया जाएगा। विधायक बंजार ने और जानकारी देते हुए कहा कि इसी परियोजना के अन्तर्गत विभाग से कलवारी, सरची व सजवाड़ पंचायत में वहाब जल सिंचाई योजना के लिये विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करवाई जा रही है।

इन बहाब जल योजनाओं का लाभ उद्यान विकास परियोजना के अन्तर्गत पौधे लगाने वाले बागवान समूहों की सहूलियत के अनुसार तय किया जाएगा, ताकि क्षेत्र में उन्नत कृषि को बढ़ावा मिल सके। इस महत्वाकांक्षी परियोजना में चैहनी, खाड़ागाड़, चनौन, बनोगी, धाउगी, दुशाड़, सरची, कलवारी, गोपालपुर नोहांडा, पेखड़ी, कनौन, मोहनी, सराज, चकुरठा, मंगलोर, रैला, शैंशर व शान्घड़ पंचायतों को सम्मिलित किया गया है।

युवा विधायक बंजार ने स्थानीय छोटे-बड़े सभी बागवानो से इस बहुकान्क्षी परियोजना का अधिक से अधिक लाभ लेने व सभी आम जन-मानस तक इस परियोजना को पहुंचाने का आह्वान किया है, ताकि ग्राम स्तर तक लोग उन्नत कृषि तकनीक व सरकार द्वारा दी जा रही सुविधा से अवगत हों।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!