प्रधान की दो टूक — वनों में लगाई आग तो एफआईआर के लिए तैयार रहे

स्वतंत्र हिमाचल

(धर्मपुर)डीआर कटवाल

सरसकान पंचायत में अगर किसी ग्रामीण ने वनों को आग लगाई तो उसके विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।पत्रकारिता से पंचायत राजनीति में आए प्रधान उमेश ठाकुर ने दो टूक कहा कि चंद शरारती तत्वों की बजह से वनों की अमूल्य संपदा को नष्ट नहीं होने दिया जाएगा। दलित बस्ती रौह में डॉ भीमराव आंबेडकर की जयंती के उपलक्ष्य में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हमें हवाई बातों के बजाय प्रैक्टिकल होना पड़ेगा।

वनों में आग की ज्यादातर घटनाएं मानवजनित हैं जिन्हें रोकने के लिए वन समितियों, महिला मंडल और युवक मंडल के सदस्यों को सक्रिय भूमिका निभानी होगी।उमेश ठाकुर ने निष्क्रिय वन समितियों को तुरंत भंग कर पर्यावरण-प्रेमी व वनों से लगाव रखने वाले ग्रामीणों को महत्व देने की वकालत की।प्रधान ने वन विभाग से ग्राम समितियों को सक्रिय करने, संवेदनशील और अति संवेदनशील क्षेत्रों में घास साफ कर फायर लाइन बनाने और फायर सीजन में ग्राम प्रहरी तथा फायर तैनात करने का आग्रह किया।उन्होंने बताया कि गत वर्ष लॉक डाउन में आगजनी की घटनाएं न के बराबर हुई जबकि इस साल अधिकतर जंगल सुलग रहे हैं जिससे साफ पता चलता है कि आगजनी की घटनाएं मानवजनित हैं।अगर कोई सामाजिक संस्था, युवक मंडल और महिला मंडल वनों को आग से बचाने के लिए महत्वपूर्ण योगदान देंगे तो पंचायत उन्हें सम्मानित करेगी। रौह के पास नुराहल डीपीएफ, रोपड़ी, रड़ा और मलौन आदि वनों को बुरी तरह जला दिया गया है। उमेश ठाकुर ने बताया कि कांढा पत्तन के पास खनन माफिया सक्रिय है जबकि खनन विभाग कई वर्षों से मूकदर्शक बनकर करोड़ों रुपए के मिनरल उड़ाने में खनन माफिया की मदद करता रहा है।उन्होंने कहा कि माफिया द्वारा सोन खड्ड में ट्रैक्टर ले जाने वाली सड़कों को जल्द ही बंद किया जाएगा। इस मौके पर उपप्रधान सुनील कुमार, वार्ड सदस्य यशोद्धा भट्ट, वार्ड सदस्य रखेड़ा रीमा देवी, ग्राम केंद्र अध्यक्ष हंस राज आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!