मंडी

अधिकारियों की अनदेखी का शिकार हुआ राजस्व परिसर

लोगों ने बना दिया कबाड़ खाना

(सरकाघाट)रितेश चौहान

उपमंडल मुख्यालय सरकाघाट में अनदेखी का  शिकार हुआ राजस्व परिसर जव से वना है विरान पडा पडा जहां जर जर हालत में ढहने की कगार पर खडा है वहीं  इसके प्रांगण में रेता वजरी और कवाड के ढेर लगे हुए है! यहां चारो ओर गंदगी फैली हुई है और भांग के बडे बडे  पौधों का  जंगल वन गया है!सफाई कर्मचारी भी हाथ लगाने को तैयार नही  और जिन्होने यहां कवाड के ढेर लगाए है नप भी उनके साथ कारवाई करने क्यों कता रही है समझ से परे है, बता दें राजस्व परिषर लाखों रूपय की लागत से 1992 में वन कर तैयार हो गया था

 

इस परिसर को राजस्व संबन्धी कार्यों के  लिए प्रयोग किया जाना था लेकिन 28 वर्ष की लम्बा अरसा बित गया यह  परिसर राजस्व विभाग ने प्रयोग में लाया ही नहीं और जव से वना है विभाग ने मुड कर भी इसकी सुध नहीं ली और आज हालत यह हो चूकि है, कि आस पास के लोगो के लिए  रेता बजरी व कुुडा कचरा रखने के लिए अड्डा वन गया है! भवन के दरवाजे खिडकियां टूट गई है छत पर वरसात में घास उगी रहती है भवन की दिवारों में बडी बडी दरारे पड चूकि है सही ढंग से इस राजस्वा परिसर का प्रयोग किया जाता तो आज यह परिसर सुरक्षित भी होता! यही नहीं  सरकाघाट में इस तरह के कई भवन है जिनका प्रयोग हुआ ही नही है जिनमें वन विभाग कार्यलय के नजदीक एनएच पर वना दो मंजिला भवन जिसमें सडक की तरफ पांच छ दुकाने आज से 20 वर्ष पहले  वनाई गई थी जो आज तक प्रयोग में नही लाई गई है उधर खंड विकास  कार्यलय के साथ लगते उद्यन विभाग कार्यलय भी अनसेफ घोषित दिया है और विजली पानी भी काट दिया है लेकिन वहां काम चल रहा है और ऐसे कई भवन भी खडे है जिनको, अनसेफ घोषित कर खाली कर दिया है ऐसे भवन अभी भी खडे है जिन्हे गिराकर इनके स्थान पर नए भवन वन सकते थे लेकिन सबन्धित विभाग चूप वैठे है !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!